Corona: कोरोना बढ़ता रहा पर दिल्ली सरकार ने 2 माह तक वेंटिलेटर के लिए प्रयास नहीं किया: मीनाक्षी लेखी

0
62
.

नई दिल्ली। दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों (Delhi Coronavirus Cases) के बीच राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी तेज हो गया है. दिल्ली से भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी (Meenakshi Lekhi) ने शनिवार को कहा कि राजधानी में लगातार दो माह तक कोरोना का कहर बदस्तूर बढ़ता रहा पर केजरीवाल सरकार ने वेंटिलेटर (Ventilator) के लिए कोई प्रयास नहीं किए.

वहीं दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का कहना है कि सरकार का फिर लॉकडाउन लगाने का कोई इरादा नहीं है. यह कोरोना पर काबू पाने का हल नहीं है. उन्होंने विपक्षी दलों से कोरोना के मुद्दे पर राजनीति नहीं करने की नसीहत दी.

आईसीयू बेड, वेंटिलेटर की कमी के सवाल पर लेखी ने कहा, जब वेंटिलेटर की कमी देशभर में आई तो पीएम केयर फंड से बहुत से वेंटिलेटर खरीदे गए और देशभर में उपलब्ध कराए गए. दिल्ली के गंगाराम अस्पताल (Gangaram Hospital) ने दिल्ली सरकार को 14 सितंबर को चिट्ठी लिखी कि हमें केंद्र सरकार से वेंटिलेटर उपलब्ध करा दीजिए. मगर 14 सितंबर से 20 नवंबर हो गया और दिल्ली सरकार ने कोई प्रयास नहीं किया कि उन्हें वेंटिलेटर उपलब्ध कराए जाएं.

वहीं दिल्ली (Delhi) के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कोरोना पर काबू पाने का दावा किया है. उन्होंने कहा है कि 7 नवंबर को दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 15 से ऊपर था, जो अब घटकर 11 पर रह गया है. धीरे-धीरे दिल्ली में कोरोना के मामले घट रहे हैं. उधर, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने दिल्ली में लॉकडाउन (Lockdown) या बाजार (Delhi Market)  बंद करने की फिलहाल किसी संभावना से इनकार किया है. केजरीवाल ने बाजार संगठनों से मुलाकात कर कहा है कि वे सभी को मास्क पहनने की हिदायत दें और मुफ्त मास्क बांटें. दिल्ली सरकार ने 42 निजी अस्पतालों को उनका कुल ICU/HDU बेड का 80% तत्काल प्रभाव से COVID19 रोगियों के इलाज के लिए आरक्षित करने का निर्देश भी दिया है.

डर बढ़ाने के लिए जुर्माना दो हजार रुपये किया

केजरीवाल ने कहा, दिल्ली में वैसे तो बहुत से लोग कोरोना से बचाव के लिए एहतियात बरत रहे हैं पर कुछ लोगों की लापरवाही की वजह से संक्रमण फैल रहा है. ऐसे लोगों के मन में डर बिठाने के लिए मास्क (Mask Fine) न पहनने पर लगाए जाने वाले ज़ुर्माने को 500 से बढ़ाकर 2000 रु. कर दिया गया है. दिल्ली CM अरविंद केजरीवाल ने स्पष्ट किया कि दिल्ली में जो ICU बेड की कमी आई है, उसे दूर करने के लिए हम युद्ध स्तर पर हर अस्पताल में जाकर ICU बेड बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं.

दिल्ली में 6608 केस सामने आए पर खतरा बरकरार

दिल्ली में रोजाना 7-8 हजार कोरोना के मरीज मिलने का क्रम टूटा है. शुक्रवार को राजधानी में 6,608 कोरोना मरीज मिले थे. राज्य में कुल 62,425 टेस्ट किए गए थे. पिछले 24 घंटों के दौरान 8775 लोग कोरोना (Covid-19) से स्वस्थ हो गए, लेकिन 118 मौतों का आंकड़ा चिंताजनक है. दिल्ली में कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या 5,17,238 तक पहुंच गई है. हालांकि इनमें 90 फीसदी से ज्यादा 4,68,143 स्वस्थ हो चुके हैं. दिल्ली में फिलहाल देश भर में सर्वाधिक कोरोना के मरीज सामने आ रहे हैं.

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here