फिलिपींस में पहली बार गूंजे छठ गीत, पटना निवासी IFS अफसर निशिकांत ने पत्नी संग किया व्रत, दूतावास की 51वीं मंजिल पर दिया अर्घ्य

0
48
.

वर्ल्ड डेस्क। पटना की अनीसाबाद पुलिस कॉलोनी के रहने वाले आईएफएस निशिकांत ने फिलीपींस में छठ मनाने का इतिहास बना दिया है। फिलिपींस की धरती पर शनिवार को पहला छठ मनाया गया है, वहां छठी मइया के गीत गूंजे हैं। निशिकांत भारतीय दूतावास फिलिपींस में प्रथम सचिव के पद पर तैनात हैं और राजधानी मनीला में पत्नी शालिनी सिंह के साथ रहते हैं। सूर्योदय के भारतीय समय से लगभग ढाई घंटे पहले उन्होंने बिल्डिंग की 51वीं मंजिल से सूर्य को अर्घ्य दिया। फिलिपींस में पहला छठ मनाने वाले पटना के आईएफएस निशिकांत और उनकी पत्नी शालिनी ने दैनिक भास्कर से विशेष बातचीत में परदेश में देसी त्योहार मनाने की पूरी कहानी सुनाते हुए कहा कि वह काफी गर्व महसूस कर रहे हैं।

भारत से मंगाया सूप और दउरा

2010 बैच के आईएफएस निशिकांत सिंह ने बताया कि 24 जून को उनका ट्रांसफर दिल्ली से फिलिपींस में भारतीय दूतावास में कर दिया गया। कोरोना काल में उन्हें विशेष विमान से फिलिपींस भेजा गया था। फिलिपींस के मनीला शहर में वह रह रहे हैं। हालात ऐसे थे कि छठ में भारत आना संभव नहीं था, फिलिपींस में भी पर्व मनाना आसान नहीं था। वहां कभी किसी ने छठ नहीं मनाया था। लेकिन निशिकांत और शालिनी ने ठान लिया था कि छठ तो उन्हें मनाना ही है। दिल्ली से सूप और दउरा मंगाया फिर बिल्डिंग के प्रशासनिक तंत्र को काफी समझाया इसके बाद छठ करने की अनुमति मिल पाई।

दूतावास की 51वीं मंजिल पर निशिकांत की पत्नी शालिनी ने अर्घ्य दिया। वहां से पूरा मनीला शहर दिख रहा था।

दूतावास की 51वीं मंजिल पर निशिकांत की पत्नी शालिनी ने अर्घ्य दिया। वहां से पूरा मनीला शहर दिख रहा था।

बिल्डिंग की 51वीं मंजिल पर बने हेलीपैड पर उन्होंने भारतीय परम्परा के अनुसार शनिवार को विधिपूर्वक छठ का पर्व मनाया। निशिकांत और शालिनी का कहना है कि बिल्डिंग की 51वीं मंजिल पर जहां वह अर्घ्य दे रहे थे, वहां से पूरा मनीला शहर दिख रहा था। यह उनके लिए गर्व की बात रही। उनका कहना है कि फिलिपींस में छठ मनाने का इतिहास बन गया है। पहला परिवार है, जो इस देश की धरती पर भारत का प्रमुख पर्व छठ मनाया और लोगों को प्रसाद भी खिलाया है।

फिलिपींस में डेढ़ लाख भारतीय लेकिन अब तक नहीं मना था छठ

निशिकांत और शालिनी दैनिक भास्कर से टेलीफोन पर हुई बात में काफी उत्साहित दिख रहे थे। उनका कहना है फिलीपींस में डेढ़ लाख भारतीय हैं लेकिन अब तक किसी ने छठ नहीं मनाया था। शालिनी सिंह ने बताया कि वह हाउसवाइफ हैं, क्योंकि फिलीपींस में अफसर की पत्नी को नौकरी की इजाजत नहीं है। शालिनी का कहना है कि दिल्ली में ह्यूमन रिसोर्स और ट्रेनिंग कंसल्टेंट का काम करती थीं। उनके चाचाजी राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह उतर प्रदेश मे केबिनेट मंत्री हैं। फिलिपींस जाने के बाद उन्हें छठ को लेकर चिंता थी, लेकिन छठ मैया ने उनके हाथों इतिहास रचवा दिया। जहां कोई छठ के बारे में जानता नहीं था वहां सूर्य को अर्घ्य देकर इतिहास बना दिया। फिलिपींस की राजधानी मनीला के मकाती सिटी, मेट्रो मनीला में शनिवार को इतिहास बन गया।

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here