पृथ्‍वी शॉ पर आकाश चोपड़ा का बड़ा बयान, कहा- उन्‍हें आउट होने से नहीं पड़ता कोई फर्क, दिलाई IPL की याद

0
54
.

स्पोर्ट्स डेस्क। आईपीएल (IPL 2020) के इस सीजन में दिल्‍ली कैपिटल्‍स (Delhi Capitals) के प्रदर्शन की समीक्षा करते हुए पूर्व भारतीय क्रिकेटर आकाश चोपड़ा (aakash chopra) ने कहा कि टीम ने काफी शानदार प्रदर्शन किया, मगर दो खिलाड़ी उम्‍मीद पर खरे नहीं उतरे.

चोपड़ा ने कहा कि पृथ्‍वी शॉ (Prithvi Shaw) और ऋषभ पंत (Rishabh Pant) पर ही टीम को सबसे ज्‍यादा उम्‍मीद थी और दोनों ने ही काफी निराश किया. दिल्‍ली ने दोनों को ध्‍यान में रखते हुए रणनीति बनाई थी कि शॉ आतिशी शुरुआत दिलाएंगे और अंतिम ओवर्स में पंत चौके छक्‍कों से कोहराम मचाएंगे. मगर ऐसा नहीं हो पाया.

शॉ के प्रदर्शन पर आकाश चोपड़ा ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा कि युवा खिलाड़ी ने टूर्नामेंट में आगाज तो बेहतरीन किया था, मगर बाद में वह अपने प्रदर्शन को नियमित नहीं रख पाए. शॉ को पहले चरण में टीम में अनुभवी बल्‍लेबाज अजिंक्‍य रहाणे की जगह दी गई थी. मगर वो इसका फायदा उठाने में नाकाम रहे.

ज्‍यादातर मौकों पर शॉ जल्‍दी विकेट गंवा बैठे. आकाश चोपड़ा ने शॉ के रवैये की आलोचना करते हुए कहा कि शॉ ज्‍यादातर बार एक ही तरह से आउट हुए और उसके बावजूद वह अपनी इस गलती से नहीं सीख रहे थे. चोपड़ा ने तो यहां तक भी कह दिया कि शॉ को आउट होने से ज्‍यादा फर्क नहीं पड़ रहा था.

रवैया न बदलने से बढ़ती हैं परेशानी

कमेंटेटर आकाश चोपड़ा ने कहा कि शॉ काफी युवा खिलाड़ी हैं. ऐसे में हर कोई निरंतरता की उम्‍मीद करता है. ऐसा हो सकता है कि किसी एक दिन आपका स्‍ट्राइक रेट अच्‍छा न हो, मगर जब आप अपने रवैये में ही बदलाव नहीं करता चाहते हों तो परेशानी बढ़ जाती है. उन्‍होंने कहा कि शॉ बार बार एक ही तरह से आउट हुए. उन्‍होंने यह भी कहा कि अगर शॉ ऐसा ही करते रहे तो टीम को उन्हें बाहर करने में कोई परेशानी नहीं होगी. टूर्नामेंट के पहले चरण में शॉ ने केकेआर के खिलाफ 66 रन, आरसीबी के खिलाफ 42 रन बनाए थे. उन्‍होंने 13 मैचों में महज 228 रन ही बनाए थे.

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here