Kumbh Mela 2021: मकर संक्रांति पर होगा कुंभ का पहला स्नान, जानें शाही स्नान की तिथियां…

0
82
.

धर्म डेस्क। दुनिया के सबसे बड़े धार्मिक सम्मेलन कहे जाने वाले कुंभ मेले (Kumbh Mela) का इंतजार अब खत्म होने वाला है। इस बार इसका आयोजन हरिद्वार में होने जा रहा है, जो कि पौष मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा 14 जनवरी से शुरू होगा। बता दें कि हिंदू धर्म में कुंभ मेला एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण पर्व के रूप में मनाया जाता है, जिसमें देश-विदेश से सैकड़ों श्रद्धालु कुंभ पर्व स्थल हरिद्वार, इलाहाबाद, उज्जैन और नासिक में स्नान करने के लिए एकत्रित होते हैं। कुंभ का संस्कृत अर्थ कलश होता है।

खास बात यह कि हजारों साल पुराना यह मेला 12 वर्षों में एक बार आयोजित होता है। लेकिन इस बार कुंभ 12 वर्ष वाद नहीं बल्कि 11 वर्ष बाद लग रहा है। दरअसल, कुंभ का आयोजन ज्योतिष गणना के आधार पर किया जाता है, लेकिन वर्ष 2022 में बृहस्पति ग्रह कुंभ राशि में नहीं होंगे। इसलिए इसी वर्ष 11वें साल में कुंभ का आयोजन किया जा रहा है। हालांकि, कुंभ मेले में स्नान के लिए कोविड की निगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी।

मान्यता 

हिंदू धर्म के अनुसार मान्यता है कि किसी भी कुंभ मेले में पवित्र नदी में स्नान या तीन डुबकी लगाने से सभी पाप नष्ट हो जाते हैं और मानव को जन्म-पुनर्जन्म तथा मृत्यु मोक्ष की प्राप्ति होती है।

ये हैं स्नान की प्रमुख तिथियां

पहला स्नान: 14 जनवरी संक्रांति के दिन होगा।
दूसरा स्नान: 11 फरवरी को मौनी अमावस्या पर होगा।
तीसरा स्नान: 16 फरवरी को बसंत पंचमी पर होगा।
चौथा स्नान: 27 फरवरी को माघ पूर्णिमा की तिथि पर होगा।
पांचवां स्नान: 13 अप्रैल चैत्र शुक्ल प्रतिपदा पर होगा।
छठवां स्नान: 21 अप्रैल को राम नवमी पर होगा।

शाही स्नान

पहला शाही स्नान: 11 मार्च शिवरात्रि
दूसरा शाही स्नान: 12 अप्रैल सोमवती अमावस्या
तीसरा मुख्य शाही स्नान: 14 अप्रैल मेष संक्रांति
चौथा शाही स्नान: 27 अप्रैल बैसाख पूर्णिमा

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here