IND vs AUS: महान गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन ने कहा- रविचंद्रन अश्विन जैसी काबलियत और किसी स्पिन गेंदबाज के पास नहीं, कि ये काम कर पाए…

0
48
.

स्पोर्ट्स डेस्क। श्रीलंका के महान स्पिन गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) ने रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) को लेकर बड़ा बयान दिया है। मुरलीधरन ने कहा कि इस समय के स्पिन गेंदबाजों में अश्विन ही काबिल नजर आते हैं जो कि टेस्ट क्रिकेट में 700 या 800 विकेट चटका सकते हैं। श्रीलंका के पूर्व स्पिनर ने नाथन लायन को इस लिस्ट में रखने से साफतौर पर इनकार किया। रविचंद्रन अश्निन (Ravichandran Ashwin) का प्रदर्शन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में बेहद शानदार रहा है और अबतक वह छह पारियों के दौरान तीन दफा स्टीव स्मिथ को आउट कर चुके हैं। अश्विन ने सिडनी टेस्ट में अपनी बल्लेबाजी के दम पर भारतीय टीम की हार को टाला था।

मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) ने कहा, ‘अश्विन के पास मौका है, क्योंकि वह बेहतरीन गेंदबाज हैं। उनके अलावा, कोई और गेंदबाज 800 तक नहीं पहुंच सकता। नाथन लायन में वह काबिलियत नहीं। वह 400 विकेट के करीब हैं, लेकिन वहां पहुंचने के लिए काफी मैच खेलने होंगे।’

मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) ने आगे कहा, ‘टी20 और वनडे क्रिकेट से सब कुछ बदल गया। जब मैं खेलता था तब बल्लेबाज तकनीक के धनी होते थे और विकेट सपाट रहते थे। अब तो तीन दिन में मैच खत्म हो रहे हैं। मेरेर दौर में गेंदबाजों को नतीजे लाने और फिरकी का कमाल दिखाने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने पड़ते थे। आजकल लाइन और लैंथ पकड़े रहने पर पांच विकेट मिल जाते हैं, क्योंकि आक्रामक खेलते समय बल्लेबाज लंबा नहीं टिक पाते।

अनिल कुंबले, सकलेन मुश्ताक अहमद और बाद मे हरभजन सिंह के समय में खेलने वाले मुरलीधरन ने कहा, ‘उस समय स्पिनरों को विकेट के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती थी। यही वजह है कि दूसरी गेंदें तलाशने पर काम करते थे। अब टी20 के आने से विविधता में बदलाव आया है।’ मुरलीधरन ने डीआरएस के आने के बाद सिर्फ एक श्रृंखला 2008 में भारत के खिलाफ खेली और उनका मानना है कि उस समय इस तकनीक के इस्तेमाल से उनके विकेट और अधिक होते । उन्होंने कहा, ‘ मैं यही कहूंगा कि डीआरएस होता तो मेरे नाम और भी विकेट होते क्योंकि तब बल्लेबाज पैड का इस्तेमाल इतनी आसानी से नहीं कर पाते । उन्हें संदेह का लाभ मिल जाता था।’

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here