Farmers Rally Violence: संयुक्‍त किसान मोर्चा ने कहा, हिंसा के लिए हम जिम्‍मेदार नहीं, जिन्‍होंने बैरिकेड तोड़े वे पन्‍नू ग्रुप के सदस्‍य

0
180
.

नई दिल्ली. Farmers’ Rally: संयुक्‍त किसान मोर्चा ने मंगलवार को गणतंत्र दिवस पर किसानों की ओर से निकाली गई ट्रैक्‍टर रैली के दौरान हुई हिंसा में संगठन की किसी भी जिम्‍मेदारी से इनकार किया है. मोर्चा के सदस्‍य राजेंदर सिंह ने कहा, ‘कल जो लाल किले पर हुआ,जो हिंसा हुई उसके लिए हम ज़िम्मेदार नहीं हैं.’ उन्‍होंने कहा, ‘कल लाल क़िले पर धार्मिक झंडा लगाना बेहद ग़लत है. जिन्होंने कल बैरिकेड तोड़े, वे सतनाम पन्नू ग्रुप के सदस्य हैं .हमने उन्हें दो बार बुलाकर समझाया था पर वे नहीं माने।

राजिंदर सिंह ने कहा कि दीप सिद्दू कैसे लाल क़िले तक पहुंच गया. जिन लोगों ने कल लाल किले पर हंगामा किया वो गद्दार हैं. हमने तय समय से 10:30 बजे मार्च शुरू किया था,पर पन्नू ग्रुप 7 बजे निकल गया उन्हें पुलिस ने क्यों नहीं रोका? मोर्चा के सदस्‍य ने कल लाल क़िले पर जो हुआ वह निंदनीय है. दीप सिद्दू और लख्खा सिधाना ने एक दिन पहले रात में मंच पर आकर भड़काया. मंच पर आकर शराब पी और बदतमीज़ी की. ये सब धर्म की बेअदबी है. दीप सिद्धू बीजेपी का आदमी है, सनी देओल का क़रीबी है. उन्‍होंने कहा कि हम बैठक के बाद अपनी आगे की रणनीति तय करेंगे.

संयुक्‍त किसान मोर्चा की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि पंजाब के किसान संगठनों ने बैठक की. मंगलवार को ट्रैक्‍टर रैली के दौरान किसान आंदोलन को बदनाम करने की गहरी साज़िश रची गई थी. शांतिपूर्ण आंदोलन के ख़िलाफ़ किसान मज़दूर संघर्ष समिति(पन्नू ग्रुप) के साथ मिलकर गंदी साज़िश रची गई.जिस किसान समूह ने रिंग रोड पर बैरिकेड तोड़े, वे संयुक्त किसान मोर्चा का हिस्सा नहीं है. बयान में कहा गया है कि इन्होंने पहले से ही अलग स्टेज बना रखा है.दीप सिद्धू जैसे लोगों ने माहौल ख़राब किया, इन्होंने ऐलान किया कि रिंग रोड से लाल किले मार्च करेंगे. यही नहीं,इन्होंने दो घंटे पहले ही अपना मार्च शुरू कर दिया. संयुक्‍त किसान मोर्चा मंगलवार को हुई हिंसा की निंदा करते हैं.

गौरतलब है कि ट्रैक्‍टर रैली के दौरान नांगलोई में किसानों और पुलिस के बीच जोरदार झड़प हुई. किसानों ने बसों और पुलिस वाहन में तोड़फोड़ की. सरकारी वाहनों में भी उन्‍होंने तोड़फोड़ की, लाठियां चलाईं और पुलिस बल पर पथराव किया. हालात को काबू करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज, वाटर कैनन और आंसू गैस का इस्‍तेमाल करना पड़ा.

Source link

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here