Maharashtra: गुजराती वोटरों को लुभाने के लिए शिवसेना का रास गरबा, BJP के गढ़ में हो रहा है आयोजन…

0
83
.

Mumbai. शिवसेना (ShivSena) ने बीएमसी चुनावों (BMC Elections) के लिए मोर्चाबंदी शुरू कर दी है। मुंबई के मराठी वोटरों के साथ-साथ अब शिवसेना (Shivsena) गुजराती वोटरों को भी अपने साथ जोड़ने की शिद्दत से कोशिश कर रही है। इसी सिलसिले में शिवसेना (Shivsena) ने आगामी रविवार को मालाड में गुजराती भाषी मुंबईकरों के लिए एक विशेष रास गरबा कार्यक्रम आयोजित किया है। कहने को तो यह रास गरबा का एक सांस्कृतिक कार्यक्रम है, लेकिन इसी कार्यक्रम में मुंबई के 21 गुजराती उद्योगपति शामिल होंगे।

बता दें कि रास गरबा के इस कार्यक्रम से पहले शिवसेना (Shivsena) ने ‘मुंबई मा जलेबी ने फाफडा, उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) आपडा’ के नारे के साथ ‘भोजन डिप्लोमसी’ का कार्यक्रम आयोजित किया था। पिछले महीने हुए इस कार्यक्रम में शिवसेना (Shivsena) ने जलेबी-फाफड़ा के साथ वड़ा पाव परोस कर गुजराती मुंबईकरों के साथ सामंजस्य करने की एक कोशिश की थी, जो काफी हद तक सफल भी रही।

इस कार्यक्रम में बड़ी तादाद में गुजराती मुंबईकर शामिल हुए थे। इस सफलता से उत्साहित होकर अब गुजराती समाज का दूसरा आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम की खास बात यह है कि इसे बीजेपी का गढ़ समझे जाने वाले उत्तर मुंबई की मालाड विधानसभा क्षेत्र में आयोजित किया गया है।

गुजराती भाषी मुंबईकरों के बीच शिवसेना (Shivsena) की इस मोर्चेबंदी की कमान शिवसेना (Shivsena) के राष्ट्रीय संगठन हेमराज शाह और कल्पेश मेहता संभाल रहे हैं। हेमराज शाह का कहना है कि पूरे कोरोना काल में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) ने जिस संयम और समझदारी से फैसले लिए हैं, उससे समूचा गुजराती समाज प्रभावित है। लोगों की भावना है कि उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) बिना किसी भेदभाव के राज्य का कामकाज संभाल रहे हैं और यह माहौल न सिर्फ व्यापार के लिए, बल्कि सामाजिक सद्भाव के लिए भी बहुत जरूरी है।

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here