पहले भारत से पाकिस्तान लौटता था तो लगता था किसी गरीब मुल्क से अमीर देश में आ गया- पाक PM इमरान खान

0
239
.

वर्ल्ड डेस्क. पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Pak PM Imran Khan) बौखलाहट में अमीरी की बचकानी बातें कर रहे हैं। उन्होंने गुरुवार को देश के नाम संबोधन में कहा, ‘पहले जब मैं भारत से पाकिस्तान (Pakistan) लौटता था तो लगता था कि किसी गरीब मुल्क से अमीर मुल्क आ गया हूं, लेकिन अब हमें शर्म आती है। हमारा मुल्क धीरे-धीरे गरीब हो गया है।’

पाकिस्तान (Pakistan) के नाजुक आर्थिक हालात और सत्ता जाने के खतरे के बीच इमरान की बौखलाहट तो समझ आती है, लेकिन यह बात समझ नहीं आई कि उन्हें भारत के मुकाबले पाकिस्तान (Pakistan) में अमीरी का अहसास कैसे होता था? क्योंकि आर्थिक रूप से पाकिस्तान (Pakistan) न तो आज भारत के आगे कहीं टिकता न पहले कभी टिकता था।

भारत की इकोनॉमी पाकिस्तान (Pakistan) से 10 गुना बड़ी

1999 में भारत की GDP 34.37 लाख करोड़ रुपए थी। वहीं, पाकिस्तान (Pakistan) की GDP भारत से 629% कम यानी, 4.71 लाख करोड़ रुपए थी। अब 22 साल बाद भारत, पाकिस्तान (Pakistan) से 10 गुना बड़ी अर्थव्यवस्था हो गया है।

इमरान सरकार को विश्वासमत साबित करना है

इमरान (Pak PM Imran Khan) ने कहा, ‘मैं पैसा कमाने के लिए नहीं राजनीति में नहीं आया। मेरे पास पहले से ही इतना पैसा और शोहरत थी कि मैं पूरी जिंदगी चैन से बिता सकता था। मैं करप्ट लोगों से समझौता नहीं करूंगा।’ इमरान ने ये बात अपनी सरकार से विश्वासमत से पहले कही हैं। इमरान सरकार 6 मार्च को विश्वासमत करवा रही है, उसमें हारने पर इमरान को विपक्ष में बैठना होगा।

सीनेट में वित्त मंत्री की हार से इमरान पर दबाव

इमरान सरकार के वित्त मंत्री अब्दुल हफीज शेख को बुधवार को सीनेट में हार का सामना करना पड़ा। उन्हें पाकिस्तान (Pakistan) के पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने हरा दिया। इसके बाद इमरान खान (Pak PM Imran Khan) पर इस्तीफे का दबाव बढ़ गया और उन्हें विश्वासमत का सामना करना पड़ रहा है।

इमरान (Pak PM Imran Khan) ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, ‘इनकी सोच थी कि मेरे ऊपर नो कॉन्फिडेंस की तलवार लटकाएंगे और मैं इनके सारे केस खत्म कर दूंगा, लेकिन मैं संसद में सबके सामने विश्वास मांगूगा। मैं अपनी पार्टी के लोगों से भी कहता हूं कि आप मेरे साथ नहीं हैं, तो आपका हक है कि संसद में हाथ उठाकर कह दीजिए।’

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here