UP: प्राइवेट अस्पताल का अमानवीय चेहरा- पैसों के अभाव में 3 साल की बच्ची ने तड़प- तडपकर दे दी जान

0
167
.

क्राइम डेस्क. उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में एक प्राइवेट हॉस्पिटल (Private Hospital) का अमानवीय चेहरा सामने आया है। यहां 3 साल की बच्ची के इलाज के दौरान पैसों की मांग पूरी न होने पर हॉस्पिटल (Hospital) प्रशासन ने परिवार को बाहर भेज दिया और कहा अब इसका इलाज यहां नहीं हो पाएगा. पैसों के बिना इलाज के अभाव में बच्ची की हालत बिगड़ती चली गई और आखिरकार उसने दम तोड़ दिया. दिल दहलाने वाला मामला सामने आने के बाद डीएम ने जांच के आदेश दिये हैं।

जानकारी के मुताबिक, प्रयागराज के करेली इलाके के रहने वाले ब्रह्मदीन मिश्रा की 3 साल की बेटी को पेट में बीमारी थी. मां-बाप ने इलाज के लिए प्रयागराज के धूमनगंज के रावतपुर एक बड़े प्राइवेट हॉस्पिटल (Private Hospital) में भर्ती कराया था. कुछ दिन बाद बच्ची के पेट का ऑपरेशन किया गया और फिर दोबारा पेट का ऑपरेशन किया गया.

बच्ची के पिता के मुताबिक इस ऑपरेशन का 1.5 लाख रुपए ले लेने के बाद भी हॉस्पिटल (Hospital) प्रशासन ने पांच लाख की डिमांड की. जब रुपए नहीं दे पाए तो बच्चे सहित हॉस्पिटल (Hospital) प्रशासन ने परिवार को बाहर भेज दिया और कहा अब इसका इलाज यहां नहीं हो पाएगा.

डीएम ने दिए जांच के आदेश

इसके बाद पिता अपनी बेटी को लेकर कई हॉस्पिटल (Hospital) तक गए. लेकिन सभी हास्पिटलों ने बच्ची को लेने से मना कर दिया गया. कहा गया कि बच्ची की हालत बहुत क्रिटिकल है, वह नहीं बच पाएगी. बच्ची जिंदगी की जंग हार गई और उसने इलाज के अभाव में दम तोड़ दिया. मृतक बच्ची के पिता का आरोप है कि डॉक्टर्स ने बच्ची के ऑपरेशन के बाद सिलाई, टांका नहीं किया और परिवार को ऐसे ही सौंप दिया. इसी वजह से दूसरे हॉस्पिटल (Hospital) ने बच्ची को लेने से मना कर दिया. बाद में इलाज के अभाव में बच्ची ने दम तोड़ दिया.

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here