अटल आवासीय विद्यालय योजना- यूपी के इन बच्चों की दी जाएगी निशुल्क आवासीय शिक्षा…

0
262
.

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी की अध्यक्षता में अटल आवासीय विद्यालयों के निर्माण की समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। बैठक में बताया गया कि उ0प्र0 भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड में पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के 1000 बालक/बालिकाओं एवं अनाथ बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिये जाने हेतु प्रत्येक मण्डल (कुल-18) में अटल आवासीय विद्यालयों की स्थापना की जा रही है।

इन विद्यालयों में कक्षा 06 से 12 तक निःशुल्क आवासीय शिक्षा प्रदान की जायेगी। उक्त विद्यालयों का निर्माण 12 से 15 एकड़ भूमि पर कराया जायेगा तथा उक्त विद्यालयों का संचालन उ0प्र0 भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा किया जायेगा। उक्त अटल आवासीय विद्यालयों के निर्माण हेतु कार्यदायी संस्था लोक निर्माण विभाग है।

इसके अतिरिक्त उक्त अटल आवासीय विद्यालयों के निर्माण हेतु वित्तीय वर्ष 2019-20 में रु0 180.00 करोड़ का आय-व्ययक प्राविधान किया गया था, जिसके सापेक्ष प्रत्येक अटल आवासीय विद्यालय के निर्माण हेतु प्रथम किस्त के रुप में रु0 10.00 करोड़ ( कुल रु0 180.00 करोड़ ) की वित्तीय स्वीकृति निर्गत की गयी है तथा उक्त धनराशि लोक निर्माण विभाग को हस्तान्तरित कर दी गयी है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में रुपये 270.00 करोड़ का बजट प्राविधान किया गया है।

बैठक में अपर मुख्य सचिव श्रम सुरेश चन्द्रा, प्रमुख सचिव लोक निर्माण नितिन रमेश गोकर्ण, सचिव लोक निर्माण समीर वर्मा सहित सम्बन्धित विभागों के अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण आदि उपस्थित थे।

योजना की रुपरेखा/क्रियान्वयन के प्रमुख प्वॉइंट्स

  1. योजना का संचालन महिला समाख्या/गैर सरकारी स्वैच्छिक संस्थाओं यानी एनजीओ/राजकीय संस्थानों, यूनिवर्सिटीज व ऐसी अन्य संस्थाओं, जैसा कि बोर्ड द्वारा निर्णय लिया जाए और बोर्ड के ऐसे फैसले को उत्तर प्रदेश शासन की अनापत्ति प्राप्त हो, के माध्यम से कराया जाएगा.

  2. कक्षा-5 तक की पढ़ाई 2 साल के ब्रिज कोर्स के रूप में होगी. कक्षा-6 से कक्षा-8 तक की पढ़ाई 3 साल की होगी. कक्षा 9 से 12 तक की शिक्षा देने के लिए बच्चों के अनुभव के आधार पर अलग से योजना बनाई जाएगी.

  3. योजना के अंतर्गत विद्यालय पूर्णत: आवासीय, जहां जरूरी हो अलग-अलग या फिर सह शिक्षा के आधार पर संचालित होंगे. विद्यालय में बेसिक शिक्षा परिषद/सीबीएसई/आईसीएसई, जो भी यूपी भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मका कल्याण बोर्ड द्वारा निर्धारित किया जाए, उस बोर्ड के पाठ्यक्रम के अनुसार शिक्षा दी जाएगी.

  4. प्रत्येक विद्यालय में 4 पूर्णकालिक अध्यापक, 3 अंशकालिक अध्यापक, 1 वार्डेन, 1 लेखाकार, 4 चौकीदार/चपरासी, 1 मुख्य रसोइया एवं 1 सहायक रसोइया रखे जाएंगे.

  5. प्रत्येक आवासीय विद्यालय में कम से कम 5 कक्ष होंगे, जिनमें से 1 कक्ष अध्यापकों के लिए, 1 कक्ष कार्यालय के लिए और 3 कक्ष बच्चों की शिक्षा के लिए होंगे. पहले दो कक्ष 15×20 वर्ग फीट क्षेत्रफल के और शेष 3 कक्ष 25×25 वर्ग फीट क्षेत्रफल के होंगे. छात्रावास में कम से कम 15×20 वर्ग फीट का एक कक्ष वार्डेन के लिए होगा.

  6. प्रत्येक विद्यालय में कम से कम 03 शौचालय, स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था और बिजली कनेक्शन का होना जरूरी है.

  7. आवासीय विद्यालयों में छात्र एवं छात्राओं के लिये अलग-अलग छात्रावास यानी हॉस्टल की व्यवस्था होगी. ऐसा प्रत्येक आवास/कक्ष/डारमेट्री कम से कम 2000 वर्गफीट क्षेत्रफल का होगा. छात्र/छात्राओं के लिए कम से कम 3-3 अलग-अलग शौचालय एवं स्नानगृह होंगे.

  8. प्रत्येक छात्रावास में 1 किचन होगा और कम से कम 1000 वर्गफीट क्षेत्रफल का भोजनालय-कक्ष होगा.

  9. आवासीय विद्यालयों के छात्र एवं छात्राओं को प्रतिदिन प्रातःकाल नाश्ता, दोपहर का खाना, शाम की चाय और रात का खाना (डिनर) दिया जाएगा. छात्रावास में स्वच्छ पेयजल, खेल-कूद एवं मनोरंजन की पर्याप्त व्यवस्था की जाएगी.

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here