यूपी से बड़ी खबर- BJP-BSP के दर्जनों नेताओं ने ज्वाइन की सपा, तो अखिलेश यादव बोले कुछ ऐसा, सपाइयों में खुशी की लहर

0
484
.

लखनऊ. यूपी में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव के देखते हुए सभी दलों ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। इसी बीच यूपी के बांदा में बीजेपी और बसपा को तगड़ा झटका लगा है। बीजेपी और बसपा के दर्जनों नेताओं ने सपा प्रदेश अध्यक्ष की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

लखनऊ. सपा मुख्यालय में बांदा जिले के भारतीय जनता पार्टी व बहुजन समाज पार्टी के दर्जनों प्रमुख नेताओं ने सदस्यता ग्रहण की। प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने सदस्यता दिलाने के साथ उम्मीद जताई कि वर्ष 2022 में समाजवादी पार्टी की सरकार बनाने की दिशा में तेजी से काम होगा।

बड़ी खबर- अखिलेश यादव ने किया एक ऐसा ट्वीट मच जाएगा हडकंप, यूपी सरकार की बढ़ेंगी मुश्किलें….

इस अवसर पर पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. राजपाल कश्यप, छात्रसभा के पूर्व अध्यक्ष निर्भय सिंह तथा लोहिया वाहिनी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अचिन खरे भी उपस्थित थे। सदस्यता ग्रहण करने वालों में अरुण टेपी, नीरज गुप्ता, प्रिंस साहू, पंकज मिश्रा, अमन मिश्रा, राकेश गुप्ता व धीरज पांडेय प्रमुख थे।

भाजपा ने बिगाड़ा लोकतंत्र का चेहरा- अखिलेश यादव

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने वर्ष 2022 के आम चुनाव में बूथ की बड़ी लड़ाई के लिए तैयार रहने का आह्वान करते हुए भारतीय जनता पार्टी पर लोकतंत्र का चेहरा बिगाड़ने का आरोप भी लगाया। रविवार को उन्होंने पार्टी मुख्यालय में प्रमुख कार्यकर्ताओं और वित्तविहीन शिक्षकों को संबोधित करते हुए समाजवादी सरकार बनाने का संकल्प दोहराया।

यूपी से बहुत बड़ी खबर- शिवपाल यादव ने कर दिया ऐलान, BJP को हराने के लिए भतीजे अखिलेश यादव…

केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि पब्लिक सेक्टर के लाभकारी संस्थानों को भी योजनाबद्ध तरीके से बेचा जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि जनता को भरमाने का काम किया जा रहा है। देश संभालने की क्षमता भाजपा में नहीं है। उन्होंने कहा कि सपा सरकार बनाने के लिए कार्यकर्ता अनुशासित होकर साइकिल को लक्ष्य बनाकर मतदान की तैयारी करें।

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा ने अपने दरवाजे खास लोगों के लिए खोल रखे हैं जबकि गरीबों, किसानों व बेरोजगार नौजवानों के लिए उसके दरवाजे बंद हैं। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन का तीसरा महीना होने को है परंतु उनकी मांगों पर सरकार ने कोई निर्णय नहीं किया गया वरन किसानों का दमनचक्र जारी है।

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here