विंटर ओलिपिंक के मद्देनजर हाई अलर्ट पर चीन, स्कूल और टूरिस्ट स्पॉट बंद

0
44
.

बीजिंग: चीन देश में मिलने वाले कोरोना के मामलों पर बहुत ही सख्त रवैया अपना रहा है। ड्रैगन ने 3 कोरोना केस मिलने पर शंघाई के 2 एयरपोर्ट्स से उड़ान भरने वाली करीब 500 फ्लाइट्स को सस्पेंड कर दिया है। स्थानीय प्रशासन ने स्कूलों को बंद करा दिया है और सभी टूर्स को संस्पेंड कर दिया है। कहा जा रहा है कि फरवरी 2022 के विंटर ओलिंपिक को देखते हुए चीन ने यह कदम उठाया है। इसमें कई देशों के एथलीट्स और मीडियाकर्मी शामिल होंगे।

सभी टूरिस्ट स्पॉट बंद
शंघाई की हेल्थ अथारिटी ने शुक्रवार को कहा- पाए गए तीनों केस 3 दोस्तों के हैं, जो पिछले हफ्ते सूजौ शहर घूमने गए थे। फ्लाइट ट्रैकर वैरीफलाइट के आंकड़ों के मुताबिक, शुक्रवार को शंघाई के दो प्रमुख एयरपोर्ट्स की 500 से भी अधिक उड़ानें रद्द कर दी गईं।

शंघाई प्रशासन ने शहर से जुड़े सभी अंतर्राज्यीय टूर पर रोक लगा दी है। यहां के 6 अस्पतालों ने भी बाहरी मरीजों को भर्ती करने से इनकार कर दिया है। चीन में होने वाले विंटर ओलिंपिक को देखते हुए कोविड टेस्ट की संख्या बढ़ा दी गई है।

शंघाई कोविड टास्क फोर्स के प्रमुख झांग वेनहोंग ने कहा- चीन ने कोरोना की रोकथाम के दौरान ढेर सारे प्रयास किए हैं, इसलिए कोरोना को लेकर हमारी रणनीति मे कोई बदलाव नहीं होगा। कोरोना को लेकर सावधानी नहीं बरतने पर हमें फिर से पहली जैसी मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है। अधिकारी फरवरी के विंटर ओलिंपिक में किसी तरह की अड़चन नहीं चाहते।

शहर से बाहर जाने के लिए निगेटिव रिपोर्ट जरूरी
सूजौ शहर शंघाई से करीब 100 किलोमीटर दूर है, इसकी आबादी करीब 1.3 करोड़ है। प्रशासन ने यहां के सभी टूरिस्ट स्पॉट को बंद कर दिया है, निवासियों को शहर छोड़ने से पहले कोरोना निगेटिव की रिपोर्ट दिखानी होगी। शंघाई के एक मरीज के संपर्क में आने के बाद सूजौ में सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया है। शहर के निवासी बाहर जाने के लिए बस सर्विस का उपयोग भी नहीं कर पा रहे हैं।

चीनी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, पास के हांग्जो शहर की यूनिवर्सिटी में एक केस मिलने के बाद पूरे कैंपस को बंद कर दिया गया था। ओलिंपिंक के आयोजन वाले पार्क को भी इवेंट से पहले सील कर दिया गया है।

.