पाकिस्‍तान से ज्यादा चीन को होगा अफगानिस्‍तान की तालिबान सरकार से बड़ा फायदा

0
164
.

 

नई दिल्‍ली। बताया जा रहा है कि अफगानिस्‍तान की तालिबान सरकार का सबसे बड़ा फायदा पाकिस्‍तान को नहीं, चीन को होगा। इसकी केवल एक नहीं बल्कि कई वजह हैं। चीन भले ही तालिबान सरकार को मान्‍यता न दे लेकिन काम सारे वही होंगे जो मान्‍यता देने पर होते हैं।तालिबान सरकार के गठन के बाद चीन की यहांं पर पौ-बारह होने वाली है।

अफगानिस्‍तान में तालिबान की सरकार के गठन के बाद बड़ा सवाल है कि उसको किन-किन देशों से मान्‍यता मिलेगी। इस बारे में काफी हद तक अंतरराष्‍ट्रीय मंच पर स्थिति साफ हो चुकी है। तालिबान सरकार को पाकिस्‍तान और कतर के अलावा फिलहाल कोई भी दूसरा देश मान्‍यता देने पर हामी नहीं भर रहा है। भारत, अमेरिका, चीन, रूस, तुर्की समेत यूरोपीय संगठन की तालिबान से वार्ता जरूर हुई है। लेकिन, इन्‍होंने तालिबान सरकार को मान्‍यता देने से फिलहाल इनकार कर दिया है। इसके बावजूद चीन इस सरकार के बेहद करीब है। बिना सरकार को मान्‍यता दिए हुए भी वो वही सब करने को तैयार है तो मान्‍यता देने पर होता है। यही वजह है कि जानकार मानते हैं कि इस सरकार का सबसे बड़ा फायदा भी चीन को ही होने वाला है। इसमें वो पाकिस्‍तान को भी पीछे छोड़ देगा।

ऐसा इसलिए भी है क्‍यों‍कि पाकिस्‍तान खुद चीन के रहमोकरम पर निर्भर है। चीन के आगे पाकिस्‍तान पूरी तरह से बेबस है। ऐसे में वो चीन से किसी भी तरह का पंगा नहीं ले सकता है। इतना जरूर हो सकता है कि भारत में अस्थिरता के लिए वो तालिबान का साथ पा ले। ये चीन के लिए भी फायदे का सौदा होगा।

.