गाजियाबाद: हिंडन एयरबेस पर वायुसेना के तीन विमानों से अपने वतन लौटे 629 छात्र

0
55
Hindon airbase
.

फर्स्ट आई न्यूज डेस्कः

 भारतीय वायुसेना के तीन सी-17 ग्लोबमास्टर विमान 629 छात्रों को लेकर शनिवार सुबह गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस पर उतरे। इन विमानों ने शुक्रवार को इसी एयरबेस से उड़ान भरी थी और रोमानिया, पोलैंड और स्लोवाकिया से छात्रों को लेकर ये वापस आए। वायुसेना के अनुसार, 10 उड़ानों से अब तक 2056 छात्रों को भारत लाया जा चुका है और यह क्रम अभी जारी रहेगा।

यूक्रेन को अब तक साढ़े 41 टन सहायता भेजी
केंद्रीय रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट बीते बुधवार से हिंडन एयरबेस पर मौजूद हैं और विदेशों से आने वाले छात्रों की अगवानी कर रहे हैं। शुक्रवार को जब इन तीन विमानों ने छात्रों को लाने के लिए उड़ान भरी तो एनडीआरएफ की ओर से यूक्रेनियन के लिए साढ़े 16 टन मानवीय सहायता भेजी गई थी। इससे पहले यूक्रेनियन के लिए 25 टन सहायता भेजी जा चुकी है। इसमें दवाएं, सर्जिकल ग्लव्स, मास्क, सोलर लैंप, कंबल, टैंट जैसी जरूरत के सामान हैं।

काफी छात्र लेकर आ रहे पेटस
यूक्रेन से लौट रहे कई छात्र अपने साथ डॉग-कैट्सट को भी ला रहे हैं। अपने पेटस को लाने की राह इसलिए भी आसान हुई है, क्योंकि छात्र स्पेशल फ्लाइट से भारत लाए जा रहे हैं। शायद छात्र सामान्य दिनों में निजी एयरलाइंस से आते तो अपने पेटस को विदेश से लाना मुश्किल हो सकता था। इन छात्रों का कहना था कि यूक्रेन युद्धग्रस्त देश है। ऐसे में वह अपने पेटस को वहां कैसे छोड़ सकते थे।

सरजमीं पर उतरते ही भावुक हो रहे छात्र
भारत पहुंचते ही छात्र भावुक हो रहे हैं। दरअसल, इन छात्रों को आसानी से वतन वापसी की उम्मीद नहीं थी। कई छात्रों के परिवारवाले खुद उन्हें लेने के लिए हिंडन एयरबेस पर पहुंच रहे हैं। जो छात्र दूर राज्यों के रहने वाले हैं, उन्हें वहां की सरकार फ्लाइट से बुलवा रही हैं। आसपास के राज्यों की सरकारों ने छात्रों को घरों तक पहुंचाने के लिए विशेष वाहन लगाए हैं। विदेश मंत्रालय ने ही दस बसों को इंतजाम हिंडन एयरबेस पर किया हुआ है।

.