सूरत :- गुजरात की टेबल टेनिस टीम ने जीता स्वर्ण पदक

0
14
gujarat table tennis team won
.

gujarat table tennis team won सूरत :- गुजरात की पुरुष टेबल टेनिस टीम ने 36वें राष्ट्रीय खेलों के फाइनल मुकाबले में दिल्ली के खिलाफ एक भी सेट गंवाए बिना स्वर्ण पदक जीत लिया।

जीता स्वर्ण पदक

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि खिताब की दावेदार गुजरात की पुरुष टेबल टेनिस टीम ने आज यहां 36वें राष्ट्रीय खेलों के फाइनल मुकाबले में दिल्ली के खिलाफ एक भी सेट गंवाए बिना स्वर्ण पदक जीतकर अपने प्रशंसकों को जश्न मनाने का मौका दिया जबकि महिला वर्ग में पश्चिम बंगाल ने महाराष्ट्र को हराकर पहला स्थान हासिल किया। सात साल बाद हो रहे राष्ट्रीय खेलों में ये पहले स्वर्ण पदक मैच थे।

महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल ने सेमीफाइनल में हार के बाद पुरुषों के वर्ग कांस्य पदक जीते जबकि तमिलनाडु और तेलंगाना ने महिलाओं के वर्ग में कांस्य पदक जीता।
पुरुषों के टूर्नामेंट में शीर्ष वरीयता प्राप्त गुजरात प्रतियोगिता की शुरुआत से ही शानदार फॉर्म में था और एकमात्र सवाल यह था कि क्या दिल्ली कम से कम जोरदार मुकाबला कर सकती है। घरेलू टीम का दबदबा इतना अधिक था कि उसने एक भी रबर नहीं गंवाया और पदक तालिका में अपने राज्य का खाता खोला।

gujarat table tennis team won यह किया था बदलाव

फाइनल में जाने के बाद गुजरात ने एकमात्र बदलाव यह किया कि मानव ठक्कर ने पहले एकल मैच में कप्तान हरमीत देसाई की जगह ली। ठक्कर ने शुरुआती सेट में सुधांशु ग्रोवर पर दबदबा बनाया। हालांकि दिल्ली के इस पैडलर ने अगले दो सेटों में जोरदार मुकाबला किया, लेकिन वह पूर्व जूनियर वर्ल्ड नंबर-1 से आगे निकल नहीं निकल सके और सीधे सेटों में 11-3, 13-11, 14-12 से हार गए।

दिल्ली को उम्मीद थी कि पायस जैन सेमीफाइनल में अपना जौहर दोहरा सकते हैं लेकिन हरमीत देसाई उनके लिए बहुत मजबूत साबित हुए। दिल्ली का खिलाड़ी चार मैच अंक बचाने में सफल रहा और उसने वापसी करने का दावा पेश किया लेकिन गुजरात के कप्तान पीछे हटने के मूड में नहीं थे और अपनी टीम को 2-0 की बढ़त दिलाने के लिए पहले दो एक्सटेंडेड प्वाइंट्स हासिल किए।

इसके बाद मानुष शाह ने यशांश मलिक को हराकर गुजरात की जीत पक्की की। इस तरह पिछले संस्करण के रजत पदक विजेताओं को घरेलू मैदान पर पोडियम पर और ऊंचा चढऩे का मौका मिला।

.