हाईकमान ने मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह से मांगा इस्‍तीफा, होगा नए सीएम का चयन

0
142
.

चंडीगढ़, पंजाब की सियासत मेें बड़ा धमाका होता नजर आ रहा है। मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह की कुर्सी जाती दिख रही है। अब पंजाब में विधानसभा चुनाव को मात्र छह महीने का ही समय बचा है, ऐसे में कांग्रेस ने अपने सबसे मजबूत मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का इस्तीफा मांग लिया है। हालांकि अभी अधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है ,पंजाब कांग्रेस भवन में शाम को विधायक दल की मीटिंग से पहले ही पार्टी हाईकमान ने सीएम कैप्‍टन अमरिंदर सिंह से इस्‍तीफा मांग लिया है। पिछले कई दिनों से उन्हें हटाने की तैयारी चल रही थी। इसके बाद आज शाम कांग्रेस विधायक दल की बैठक में नया नेता चुना जाएगा।

नए सीएम के लिए सुनील जाखड़ और नवजोत सिद्धू का नाम चर्चा में, कांग्रेस विधायक दल की शाम में बैठक

बताया जा रहा है कि पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश रावत चंडीगढ़ पहुंच रहे हैं। कैप्टन से उन्हें इस्तीफा सौंपने को कहा गया है। नए मुख्‍यमंत्री के लिए सुनील जाखड़ व पंजाब कांग्रेस अध्‍यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू सहित कुछ अन्‍य नामाें की चर्चा है।

पंजाब कांग्रेस अध्‍यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू और पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष सुनील जाखड़

काबिले गौर है कि तीन दिन पहले करीब 40 विधायकों ने सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ अविश्वास जता दिया था। उन्होंने पत्र में यह भी लिखा था कि और भी कई विधायक उनके खिलाफ हैं लेकिन जब तक वह सीएम रहेंगे,कोई भी खुलकर उनके खिलाफ नहीं बोलेगा। ऐसे में विधायक दल की मीटिंग बुलानी जरूरी है जिसमें दो केंद्रीय पर्यवेक्षक भी हों।

उन्होंने पंजाब कांग्रेस कमेटी से आज शाम को पांच बजे विधायक दल की मीटिंग बुलाने को कहा। इसमें केंद्रीय पर्यवेक्षक के तौर अजय माकन और हरीश राय चौधरी को भेजा जा रहा है। सुबह से यह तय हो गया था कि कैप्टन अमरिंदर सिंह भी अपने निकटवर्ती विधायकों की बैठक सिसवां फार्म हाउस पर बुलाने जा रहे हैं । उनके बेहद करीबी माने जाने वाले विधायकों ने भी दबी जुबां से कहना शुरू कर दिया है कि अब खेल खत्म हो गया है।

एक विधायक ने नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर कहा कि हम पिछले लंबे समय से कैप्टन अमरिंदर से कहते आ रहे हैं कि अफसरों की बजाए पॉलिटिकल लोगों को आगे रखें। अब अफसरों से कहकर सरकार बचा लें कैप्टन। विधायकों का कहना है कि अब फार्म हाउस पर कौन जाएगा। केंद्रीय पर्यवेक्षकों की भी हम पर नजर है।

इससे पहले 25 अगस्त को भी एक ऐसी ही चिट्ठी लिखी और मीटिंग भी की जिसमें तीन दर्जन के लगभग विधायक मौजूद थे लेकिन उस बगावत को कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शांत कर लिया । कैप्टन ने हाई कमान के कहने पर दस सदस्यी तालमेल कमेटी बना दी जिसमें पार्टी प्रधान नवजोत सिद्धू के अलावा चार कार्यकारी प्रधान और मंत्रियों को लिया गया। लेकिन 25 दिन बीतने के बावजूद एक भी मीटिंग नहीं हुई।

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस आलाकमान ने 40 विधायकाें की पंजाब कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाने की मांग को स्‍वीकार कर लिया। पंजाब कांग्रेस के अध्‍यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने ट्वीट का बताया है कि पंजाब कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज शाम पांच बजे होगी। बैठक में दो पर्यवेक्षक अजय माकन और हरीश राय चौधरी भी मौजूद रहेंगे। इस बैठक को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है और कैप्‍टन अमरिंदर सिंह को लेकर चर्चाएं तेज हो गई हैं। सियासी गलियारों में इसको लेकर कयासबाजी लगाई जा रही है कि कैप्‍टन अमरिंदर सिंह की कुर्सी कायम रहेगी या कांग्रेस नया मुख्‍यमंत्री बनाएगी।

.