यूपी में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 105 नये मामले आये, कुल 2,082 एक्टिव केस

0
251
.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि प्रदेश में संक्रमण कम होने से कन्टेनमेंट जोन 871 रह गये है, जिनमें केवल 1,931 कोरोना पाजिटिव लोग है। प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,09,870 सैम्पल की जांच की गयी। प्रदेश में अब तक कुल 3,15,05,760 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित 105 नये मामले आये हैं। प्रदेश में कुल 2,082 कोरोना के एक्टिव मामले हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 98 तथा अब तक 5,92,901 लोग कोविड-19 से ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 1,85,723 क्षेत्रों में 5,12,010 टीम दिवस के माध्यम से 3,14,85,532 घरों के 15,28,81,687 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है।

श्री सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देशन में प्रदेश सरकार के कोविड संक्रमण के प्रभावी नियंत्रण की कार्ययोजना कारगर सिद्ध हो रही है। प्रदेश में सर्विलांस, कांट्रैक्ट टेसिंग व एग्रेसिव टारगेटिड टेस्टिंग से कोविड नियंत्रण में सफलता मिल रही है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रदेश में कोविड-19 के केस कम होने पर भी कोविड-19 के टेस्ट कम नहीं किये जा रहे हैं। प्रदेश में सर्विलांस का नया प्रयोग कर प्रत्येक परिवार तक पहंच कर उनका हालचाल लेते हुए कोविड संक्रमण की जानकारी ली जा रही है। उन्होंने बताया कि प्रदेश की 24 करोड़ की जनसंख्या में से 18.44 करोड़ व्यक्तियों से सम्पर्क कर कोविड संक्रमण की जानकारी ली गयी अथवा कोविड-19 के लक्षण मिलने पर उनका कोविड-19 टेस्ट कराया गया है।

श्री सहगल ने बताया कि स्वास्थ्य कर्मियों तथा फ्रंट लाइन कर्मियों को कोविड वैक्सीनेशन लगाने के बाद अब अगले चरण में 60 वर्ष से अधिक उम्र वाले लोगों को वैक्सीन लगाने का कार्य किया जा रहा है। इसके अलावा 45 से 60 वर्ष के लोगों को भारत सरकार की गाइडलाइन के अनुसार को-माबिडिटी वाले लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है। वैक्सीनेशन पंजीकरण के लिए कोविन पोर्टल खोला गया है। कल मुख्यमंत्री ने 60 वर्ष से अधिक आयु के उम्र के लोगों के वैक्सीनेशन के कार्य को देखा था।

श्री सहगल ने बताया कि संक्रमण कम होने से आर्थिक एवं औद्योगिक गतिविधियां तेजी से सामान्य हो रही हैं। प्रदेश में पुरानी इकाइयों को कार्यशील पूंजी की समस्या को दूर करने के लिए बैंकों से समन्वय करके आत्मनिर्भर पैकेज में 4.38 लाख इकाइयों को 11,945 करोड़ रूपये के ऋण बैंकों से समन्वय स्थापित कर स्वीकृत करते हुए वितरित किये गये हैं। बैंकों से समन्वय करके प्रदेश में अभी तक 8.67 लाख नई एमएसएमई इकाइयों को 30,840 करोड़ रूपये बैंकों द्वारा ऋण वितरित किये गये हैं। इस प्रकार 13.05 लाख एमएसएमई इकाइयों को 42,785 करोड़ रूपये बैंकों द्वारा ऋण वितरित किये गये हैं। इन एमएसएमई इकाइयों के माध्यम से लगभग 30 लाख से अधिक लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराये गये हैं। युवाओं के लिए प्रदेश में मिशन रोजगार चलाया जा रहा है। प्रदेश सरकार युवाओं को सरकारी नौकरी, रोजगार, स्वरोजगार, कौशल प्रशिक्षण के माध्यम से रोजगार उपलब्ध कराने की मुहिम चला रही है। उन्होंने बताया कि सभी आयोगों, विभागों, निगमों, परिषदों की पारदर्शी ढंग से रिक्तियों को भरने के लिए प्रक्रिया की जा रही है।

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here