बदायूं में 700 करोड़ रु0 की लागत से निर्मित विद्युत सब स्टेशन का लोकार्पण

0
30
.

बदायूं: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज जनपद बदायूं में लगभग 1328 करोड़ रुपये की कुल लागत की 359 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। उन्होंने विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को आवास की चाभी, चेक, स्वीकृति पत्र/प्रमाण पत्र, नियुक्ति पत्र एवं प्रोत्साहन सामग्री वितरित की।

इस अवसर पर अपने सम्बोधन में मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जनपद बदायूं में 700 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित विद्युत सबस्टेशन का लोकार्पण किया गया है। इस विद्युत सबस्टेशन के माध्यम से जनपद में विद्युत की अनवरत आपूर्ति की जा सकेगी। प्रदेश सरकार की मंशा है कि शिलान्यास की गई विकास परियोजनाएं गुणवत्ता के मानक को बनाये रखते हुए समयबद्ध ढंग से पूरी हों।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2017 से पूर्व लोक कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन के सर्वे में उत्तर प्रदेश काफी पीछे रहता था। जनप्रतिनिधियों के प्रयास एवं प्रशासनिक मशीनरी के द्वारा तीव्र क्रियान्वयन से उत्तर प्रदेश लोक कल्याणकारी एवं विकासात्मक योजनाओं के सर्वे में नम्बर-1 या नम्बर-2 पर आता है। यह सर्वे उत्तर प्रदेश की बदली हुई तस्वीर को प्रस्तुत कर रहे हैं। यह बदली हुई तस्वीर प्रधानमंत्री की प्रदेश को अग्रणी राज्यों में खड़ा करने की अपेक्षाओं एवं सपनों को पूरा कर रही है, जिसे वर्तमान सरकार ने साढ़े चार वर्ष के अन्दर पूरा करके दिखाया है। यही कारण है कि प्रदेश सरकार द्वारा विकास की जिन परियोजनाओं का शिलान्यास किया जाता है, स्वयं प्रदेश सरकार एवं उसके जनप्रतिनिधि उसका लोकार्पण करते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कानून-व्यवस्था का राज है। प्रदेश में दीपावली सहित अन्य सभी पर्व व त्योहार शांतिपूर्वक, सकुशल सम्पन्न हो रहे हैं। प्रदेश में बड़े-बड़े आयोजन सम्पन्न हो रहे हैं। अपराध एवं अपराधियों के प्रति प्रदेश सरकार की जीरो टॉलरेंस की नीति है। आज इसी का परिणाम है कि प्रदेश दंगा व अपराधमुक्त बन गया है। वर्तमान सरकार द्वारा माफियाओं व अपराधियों के प्रति सख्त रवैया अख्तियार करना देश के लिए एक नजीर है। माफियाओं एवं अपराधियों की 1,800 करोड़ रुपये से अधिक की सम्पत्ति जब्त की गयी है। साथ ही, अवैध सम्पत्तियों को राज्य सरकार द्वारा ध्वस्त भी किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जनपद बदायूं कभी वेदामऊ तथा वेदों के अध्ययन के केन्द्र के रूप में जाना जाता था। महाराज भगीरथ ने भी यहां तपस्या की थी, जिनके प्रयास से माँ गंगा का धरती पर अवतरण हुआ। माँ गंगा हजारों वर्षों से मानव जीवन का उद्धार करते हुए दुनिया की सबसे उर्वरा भूमि हमें प्रदान करती हैं। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद सरकारों ने यदि किसानों के हितों में काम किया होता, तो उत्तर प्रदेश का किसान अकेले ही देश का पेट भरने की सामर्थ्य रखता है। प्रदेश सरकार द्वारा 86 लाख किसानों का 36 हजार करोड़ रुपये का फसली ऋण माफ किया गया। प्रधानमंत्री जी ने वर्ष 2014 में स्वॉयल हेल्थ कार्ड, फसल बीमा योजना, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना लागू की। वर्ष 2019 में उन्होंने देश के अन्नदाता किसान को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से अच्छादित किया। इस योजना से देश के 12 करोड़ किसान लाभान्वित हो रहे हैं। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के माध्यम से प्रदेश के 02 करोड़ 45 लाख किसान लाभान्वित हो रहे हैं। इस योजना के तहत प्रत्येक किसान के खाते में 06 हजार रुपये वार्षिक अन्तरित किया जा रहा है।

.