IND vs ENG: महज 6 साल की उम्र में Ishan Kishan ने थामा था बल्ला, रातोंरात बन गया भारतीय क्रिकेट का सितारा

0
205
.

स्पोर्ट्स डेस्क. टीम इंडिया के युवा क्रिकेटर ईशान किशान (Ishan Kishan) रातोरात भारतीय क्रिकेट के सितारे बन चुके हैं. इंग्लैण्ड के खिलाफ डेब्यू मैच में रिकॉर्ड बनाने वाले ईशान जब मंगलवार को अपना दूसरा मैच खेलेंगे तो एक बार फिर से सभी की निगाहें उन पर होंगी लेकिन बहुत कम लोगों को पता होगा ईशान किशन (Ishan Kishan) की उस कहानी के बारे में जिसे आम तौर पर हर कोई जानना चाहता है. मसलन ईशान के पहले गुरु कौन हैं, उन्होंने कितनी उम्र में पहली बार बल्ला थामा.

महज 6 साल की उम्र में सबसे पहले ईशान किशन (Ishan Kishan) के हाथों ने बल्ला पकड़ा था, इसी उम्र में ईशान अपने पिता के साथ पटना के मोइनुल हक स्टेडियम पहुंचे और सालों साल अमीकर दयाल के क्रिकेट अकेडमी में नेट प्रैक्टिस किया. शायद यह कहना गलत नहीं होगा कि ईशान ने अपने पहले कोच अमीकर दयाल (Coach Amikar Dayal) से क्रिकेट की एबीसीडी सीखी. ईशान के कोच को आज बहुत फक्र महसूस हो रहा है कि उनके सानिध्य में क्रिकेट का गुर सीखने वाला उनका स्टूडेंट आज देश और बिहार का नाम रौशन कर रहा है लेकिन खुद भी क्रिकेटर रहे अमीकर दयाल का कहना है कि उन्हें तब और ज्यादा खुशी होगी जब T20 के बाद ईशान भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम के हिस्सा बनेंगे.

ईशान लेफ्ट हैंडेड बैट्समैन हैं और सौभाग्य से अमीकर दयाल (Coach Amikar Dayal) भी लेफ्ट हैंडेड बैट्समैन रहे हैं, इसका ईशान को खूब फायदा पहुंचा. अमीकर दयाल बिहार क्रिकेट के बड़े नाम हैं जिन्होंने बिहार की कई प्रतिभाओं को ईशान की ही तरह उभारा है. अमीकर बताते हैं कि ईशान ने करीब 17 सालों तक नेट में अपना पसीना बहाया है. सारे खिलाड़ियों के जाने के बाद भी ईशान अपनी कमियों को सुधारने के लिए घण्टों नेट प्रैक्टिस करता रहता था.

अमीकर दयाल (Coach Amikar Dayal) के साथ ईशान के उन दोस्तों का भी सीना चौड़ा हो गया है जब से उन्हें पता चला है कि ईशान ने अपने पहले ही मैच में अर्धशतक जमाया है. मोइनुल हक स्टेडियम में ईशान के साथ नेट प्रैक्टिस करने वाले साथी खिलाड़ियों की खुशी का ठिकाना नहीं हैं.

.