मौलाना कल्बे जवाद नक़वी ने इराक़ और भारत सरकार से कहा कि हिंदुस्तानी ज़ायरीन को चेहलुम के मौक़े पर करबला जाने की इजाज़त दी जाये

0
68
.

लखनऊ 10 सितंबर: इमाम हुसैन अ.स के चेहलुम के मौक़े पर हिंदुस्तानी ज़ायरीन को करबला जाने की इजाज़त ना मिलने पर इमामे जुमा मौलाना कल्बे जवाद नक़वी ने हिंदुस्तान में मौजूद इराक़ी राजदूत, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यालय और विदेश मंत्री एस. जयशंकर को पत्र लिख कर ज़ायरीन को करबला जाने की इजाज़त देने की मांग की। मौलाना ने अपने पत्र में लिखा कि इमाम हुसैन अ.स के चेहलुम के लिए हिंदुस्तानी ज़ायरीन को करबला जाने की अनुमति नहीं दी गयी है, जबकि हर साल हिंदुस्तानी ज़ायरीन बड़ी संख्या में चेहलुम के मौक़े पर करबला जाते रहे है, और इस साल भी हज़ारों लोग अनुमति मिलने का इंतेज़ार कर रहे है। हमारी इराक़ी सरकार से अपील है कि हिंदुस्तानी ज़ायरीन को इमाम हुसैन अ.स के चेहलुम के मौक़े पर करबला जाने की अनुमति दी जाये और सफर में जो भी मुश्किलें है उन्हें जल्द से जल्द हल किया जाये।

हमे मालूम हुआ है के अन्य देशो के ज़ायरीन को इराक़ आने की अनुमति दी गयी है मगर हिंदुस्तानी ज़ायरीन को इमाम हुसैन अ.स के चेहलुम में शामिल होने की अनुमति नहीं दी गयी, ये अफसोस नाक है। इस सिलसिले में आपको ग़ौर करना चाहिए क्योकि हिंदुस्तानी ज़ायरीन बड़ी संख्या में हर साल चेहलुम के मौक़े पर करबला जाते है, जो इस साल इराक़ी सरकार की तरफ से अनुमति ना मिलने की वजह से ज़ियारत से महरूम हैं ,लिहाज़ा हिंदुस्तानी ज़ायरीन के जज़बात का एहतेराम करते हुए जल्द से जल्द उन्हें भी करबला जाने की इजाज़त दी जाये। इस सिलसिले में आप इराक़ी सरकार और हिंदुस्तानी सरकार के साथ बात चीत करके इस मसले को हल करने की पूरी कोशिश करे।

मौलाना ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यालय और विदेश मंत्री एस. जयशंकर को पत्र लिख कर मांग की है कि हिंदुस्तानी ज़ायरीन को करबला जाने की अनुमति दी जाये और हिंदुस्तान की सरकार इस सिलसिले में इराक़ी सरकार से बात करे ताकि हिंदुस्तानी ज़ायरीन चेहलुम के मौक़े पर करबला की ज़ियारत से महरूम न रहे।

ये पत्र ईमेल के द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, विदेश मंत्री एस. जयशंकर और इराक़ी दूतावास को भेजा गया।

.