किसानों का खुलकर समर्थन करते नजर आ रहे सांसद वरुण गांधी

0
104
.

लखनऊ, पांच सितंबर को मुजफ्फरनगर में किसानों की एक महापंचायत में भीड़ देखने के बाद उनके समर्थन में भारतीय जनता पार्टी के सांसद वरुण गांधी नें ट्वीट किया था। पर अब वह खुलकर किसानों के समर्थन के लिए सामने आ रहे हैं।वरुण गांधी ने किसानों के हित में काम करने के लिए उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र भी लिखा है।

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से भारतीय जनता पार्टी के सांसद वरुण गांधी ने सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर गन्ना का मूल्य बढ़ाने की सलाह दी है। इतना ही नहीं उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पीएम किसान फंड को भी दोगुना करने का अनुरोध किया है। भाजपा सांसद वरुण गांधी के इस पत्र से सियासी गलियारे में हलचल मच गई है।

बता दें, वरुण गांधी लगातार तीसरी बार से उत्तर प्रदेश में भाजपा के सांसद है। वह उत्तर प्रदेश में पीलीभीत से दो बार और सुल्तानपुर से सांसद रहे। पांच सितंबर को मुजफफरनगर में किसानों की एक महापंचायत में किसानों की भीड़ देखने के बाद से उन्होंने सरकार से एक बार फिर से किसानों के साथ बात करने की वकालत की। करते रहे हैं।

सीएम योगी आदित्यनाथ को दो पेज के पत्र में पीलीभीत के सांसद ने किसानों की सभी समस्याओं और मांगों को सूचीबद्ध किया और इसके साथ ही उसी के समाधान का सुझाव भी दिया। उन्होंने गन्ना बिक्री मूल्य को 400 रुपये प्रति क्विंटल तक बढ़ाने का सुझाव दिया। वर्तमान में उत्तर प्रदेश में 315 रुपये प्रति क्विंटल तय किया गया है। उन्होंने पत्र में कहा कि किसानों को गेहूं और धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से ऊपर 200 रुपये प्रति क्विंटल का अतिरिक्त बोनस दिया जाना चाहिए। उन्होंने यह भी मांग की कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना को किसानों के लिए दोगुना कर 12,000 रुपये प्रति वर्ष किया जाना चाहिए, जिसमें राज्य सरकार अपने स्वयं के धन से 6,000 रुपये का योगदान करती है। पीएम किसान योजना केन्द्र सरकार की एक योजना है जिसके माध्यम से देश के सभी किसानों को न्यूनतम आय सहायता के रूप में प्रति वर्ष 6,000 रुपये तक मिलेंगे।

सांसद वरुण गांधी ने बिजली और डीजल की ऊंची कीमतों की किसानों की चिंता को साझा करते हुए पत्र में यूपी के मुख्यमंत्री से किसानों को डीजल पर 20 रुपये प्रति लीटर की सब्सिडी देने और बिजली की कीमतों को तत्काल प्रभाव से कम करने का अनुरोध किया।

इससे पहले 5 सितंबर को पांच सितंबर को मुजफ्फरनगर में तीन कृषि कानूनों के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा की महापंचायत के लिए बड़ी संख्या में किसानों के एकत्रित होने पर वरुण गांधी ने कहा था कि सरकार को उनके पास जाकर बात सुननी चाहिए। यह लोग भी हम लोगों में से ही है। लाखों किसान आज मुजफ्फरनगर में विरोध में एकत्र हुए हैं। हमें उनके साथ सम्मानजनक तरीके से फिर से जुडऩे की जरूरत है। उनके दर्द, उनके दृष्टिकोण को समझें और आम जमीन तक पहुंचने के लिए उनके साथ काम करें।

.