सीतापुर में फेसबुक के जरिये अपने परिवार से एक साल बाद मिला युवक पंकज थापा

0
84
sitapur
.

फर्स्ट आई न्यूज डेस्कः

सीतापुर: सोशल मीडिया का प्लेटफार्म तो हमेशा धोखधड़ी और जालसाजी के लिए हमेशा मशहूर माना जाता है लेकिन हम आपको एक ऐसा वाक्या बताने जा रहे है जहां सोशल मीडिया के फेसबुक प्लेटफॉर्म के जरिये एक वर्ष पहले बिछड़े युवक को अपने परिवार से मिलाने के काम आया है। उत्तराखंड का परिवार पिछले एक साल से लापता बेटे को पाकर काफी उत्साहित दिखा। बेटे को सकुशल देखकर मां की आंखों में आंसू आ गए। युवक पिछले एक माह से तंबौर कस्बे में ही बेसहारा ही हालात में ही घूम रहा था।

घूमते फिरते युवक पहुंचा था तंबौर

मामला तंबौर थाना क्षेत्र के कस्बे का है। यहां 20 फरवरी को दिन में एक युवक किसी तरह से तंबौर नगर अध्यक्ष झब्बन बेग के आवास के सामने विक्षिप्त अवस्था में पहुंचकर खाने की मांग कर रहा था। मिली जानकारी के मुताबिक,नगर अध्यक्ष झब्बन बेग ने युवक को नहला धुलवाकर अच्छे कपड़े पहनवाये और फिर खाना खिलाया। नगर अध्यक्ष के पूछने पर युवक ने अपना नाम पंकज थापा बताया। अगले दिन झब्बन बेग ने पुत्र शादाब और उसके साथी अमन ने युवक से फेसबुक चलाने की बात पूछी तो पंकज थापा ने अपनी फेसबुक आईडी दिखाई। जिस पर अमन ने फेसबुक आईडी के जरिये पंकज थापा के दोस्तों को संदेश भेजकर पंकज के परिवारीजनों और उसके बारे में जानकारी हासिल की। अमन के मुताबिक इस दौरान पंकज के दोस्तो ने उसके भाई का नंबर दिया तो अमन ने बातचीत कर उसके भाई के बारे में जानकारी दी।

फेसबुक से मिला बिछड़ा युवक

फेसबुक के जरिये हुयी बातचीत के बाद आखिरकार अमन पंकज थापा के परिवार तक पहुंच गया और जानकारी होते ही पंकज का परिवार उत्तराखंड से उसे लेने तंबौर आ गया। बीती देर रात पंकज का परिवार नगर अध्यक्ष के घर पहुंचा तो माँ अपने बेटे को पाकर रोने लगी। परिवारीजनों के मुताबिक,एक वर्ष पहले हरिद्वार में परिवार से बिछड़ गया था जिसकी काफी तलाश की गयी। पंकज थापा के भाई अजय ने बताया कि वह सभी उत्तराखंड के देहरादून जनपद के रहने वाले है। पंकज का परिवार उसे लेकर देहरादून के लिए रवाना हो गया है।

.