लोकतंत्र में किसानों के साथ न्याय करके, कृषि कानूनों को वापस ले सरकार-सिद्दीकी

0
116
.

बरेली. बरेली दौरे पर आये नागरिक एकता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शेख ताहिर सिद्दीकी ने सिविल लाईन स्थित उपजा प्रेस क्लब, बरेली में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी पार्टी समाज के शोषित,वंचित,पिछड़ो, दलित व मुसलमानों के हक़ व अधिकार के लिए लगातार संघर्ष कर रही है, और चाहती है की सामाजिक आर्थिक न्याय के साथ-साथ शिक्षा, सरकारी सेवाओं तथा शासन-सत्ता एवं देश के संसाधनों में समानुपातिक भागीदारी मिले। आज नफरत और जातिवादी राजनिति से लोग उब चुके है, भाजपा राज में किसान, नौजवान, व्यापारी, छात्र, दलित, पिछड़े व मुसलमान सभी परेशान है। कृषि कानूनों के वापसी की वाजिब मांग को लेकर लोकतान्त्रिक ढंग से किसान आन्दोलन कर रहे है लेकिन उनके साथ क्रूरता का व्यवहार करते हुए लोहे की दीवार व कील, कांटे लगाये जा रहे हैं, लोकतंत्र और संविधान का सम्मान करते हुए आंदोलित किसानों से बात करनी चाहिए, उनकी सभी मांगों समेत तीनो कृषि कानूनों को वापस ले लेना चाहिए।

प्रेस वार्ता में प्रमुख महासचिव रिजवान अहमद ने सपा पर हमलावर होते हुए कहा की इनके नेताओं को जब मुसलमानों का वोट लेना होता है तो 18% रिजर्वेशन देने व सच्चर कमीशन की रिपोर्ट लागू करने तथा जेलों में बंद बेगुनाह मुसलमानों के रिहाई की बात करके सत्ता हासिल कर लेते है और फिर किये गए वादे इनको याद भी नहीं रहते, इनके नेता आजम खान जेल में बंद है लेकिन इनको कोई परवाह नहीं है क्योकि श्री खां द्वारा किया गया नेक कार्य जौहर यूनिवर्सिटी का निर्माण किसी भी दल को रास नहीं आ रहा है, हमारी पार्टी जौहर यूनिवर्सिटी को बचाने की लडाई लड़ी है और आगे भी लड़ेगी। आगे उन्होंने कहा कि कांग्रेस और बसपा को आढे हाथों लेते हुए कहा की इनका किसी समाज से लेना देना नहीं है ये मात्र धन की बेटियां हैं एक 2022 के चुनाव में टिकट बेचने के लिए बेचैन है तो दूसरी खानदानी सत्ता चलाने के लिए।

इस अवसर पर पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य मौलाना जहीर, जिला अध्यक्ष बदीउद्दीन, जिला उपाध्यक्ष अब्दुल वाहिद, जिला सचिव इकरार अहमद व अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे।

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here