लखनऊ. राममंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट का ऐलान होने के बाद सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भी बाबरी मस्जिद निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाने का फैसला किया है। सूत्रों के मुताबिक, दो-तीन दिन के भीतर ट्रस्ट का रजिस्ट्रेशन भी हो जाएगा। ट्रस्ट का नाम इंडो-इस्लामिक कल्चर ट्रस्ट' होगा। इस ट्रस्ट में बाबरी मस्जिद मामले से जुड़े हुए कई लोगों को सदस्य भी बनाया जायेगा। 

इंडो इस्लामिक कल्चर ट्रस्ट के जरिए 5 एकड़ जमीन पर अस्पताल, विद्यालय, इस्लामिक कल्चरल गतिविधि को बढ़ाने वाले इंस्टिट्यूट, लाइब्रेरी, पब्लिक यूटिलिटी इनफ्रास्ट्रक्चर डिवेलप करने और दूसरे तरीके की सामाजिक गतिविधियों को बढ़ाने के लिए किया जाएगा। ट्रस्ट में भारत और भारत के बाहर भी इस्लामिक कल्चर को बढ़ावा देने के क्रियाकलापों को किया जाएगा। 

इस ट्रस्ट के जरिए सुन्नी वक्फ बोर्ड भारत में दोनों समुदायों के बीच सामंजस्य बनाने के कार्यक्रम भी चलाएगा। सुन्नी वक्फ बोर्ड ने ट्रस्ट की पूरी रूपरेखा तैयार कर ली है और इसकी बाकायदा रजिस्ट्री भी होगी। आने वाले दिनों में सरकार की तरफ से 5 एकड़ जमीन मिलने के बाद काम शुरू किया जाएगा। आने वाली 24 फरवरी को बैठक करके रूपरेखा तय की जाएगी। इस बैठक से पहले ट्रस्ट का गठन हो जायेगा। ट्रस्ट का मुखिया सुन्नी वक्फ बोर्ड का अध्यक्ष होगा जो कि पदेन अध्यक्ष होगा। अभी सुन्नी वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष जुफर फारूखी हैं।