जबसे कनिका कपूर को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था तभी से वे लखनऊ के अस्पताल में डॉक्टर्स की निगरानी में आइसोलेशन में हैं. वहां उनका इलाज चल रहा है. लेकिन फिर से कनिका का कोरोना पॉजिटिव होना यही दर्शाता है कि इलाज का उन पर कोई असर नहीं हुआ है. वैसे कनिका पर डॉक्टरों को सहयोग ना करने के भी आरोप लग चुके हैं. संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (SGPGI) के डायरेक्टर आर के धीमन ने कहा था कि कनिका इलाज के दौरान नखरें दिखा रही हैं. वे स्टार की तरह बर्ताव कर रही हैं.

कनिका की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट पर उठे थे सवाल

बता दें, कनिका कपूर की रिपोर्ट में कुछ गड़बड़ियां सामने आने के बाद सिंगर की रिपोर्ट पर सवाल उठने लगे थे. रिपोर्ट में उनकी उम्र 28 साल लिखी गई थी और कनिका को पुरुष बताया गया था. इसके बाद से ही कनिका की पॉजिटिव रिपोर्ट को लेकर संदेह की स्थिति बनी हुई थी. लेकिन अब फिर से हुई जांच के बाद साफ हो गया कि कनिका कोरोना पॉजिटिव ही हैं.

कनिका ने डॉक्टर्स पर लगाए थे धमकाने के आरोप

कनिका ने डाक्टर्स पर आरोप लगाते हुए कहा था कि उनका इलाज करने की बजाए उन्हें धमकाया जा रहा है. बकौल सिंगर- मैं परेशान हूं. मुझे नहीं पता मेरी कैसी जांच होगी. डॉक्टर्स ने मुझे धमकाया है. उन्होंने कहा कि तुमने बहुत बड़ी गलती की है. तुम बिना जांच कराए भागी हो. मुझे नहीं पता ये बातें कहा से आ रही हैं. अस्पताल में मेरी हेल्प नहीं मुझे धमकाया जा रहा है. मैं क्वारनटीन में हूं. मरीज को धमकाना तो नहीं चाहिए. किसी को कुछ भी बोल देंगे क्या.