प्रदोष व्रत 2021: शुक्र प्रदोष व्रत आज; जाने क्या करें और क्या न करें

0
154
.

शुक्र प्रदोष व्रत 2021: हिंदू धर्म में किसी भी देवी-देवता की विशेष कृपा पाने के लिए उनका व्रत और पूजन आदि किया जाता है. उसी प्रकार भोलेशंकर की कृपा पाने के लिए उनके भक्त प्रदोष व्रत (Pradosh Vrat 2021) रखते हैं. हर माह के दोनों पक्षों में आने वाली त्रयोदशी तिथि (Triyodashi Tithi) के दिन प्रदोष व्रत (Pradosh Vrat) रखा जाता है. कहते हैं कि प्रदोष व्रत (Pradosh Vrat) भगवान शिव (Lord Shiva) को अति प्रिय है. प्रदोष व्रत से भगवान जल्द प्रसन्न हो जाते हैं और भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं.

पौष माह (Paush Month) के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी आज यानी 31 दिसंबर को है. आज शिव भक्त प्रदोष व्रत (Pradosh Vrat For Shiv Devotee) रखेंगे. ये साल का अंतिम प्रदोष व्रत (Years Last Pradosh Vrat) है. आज शुक्रवार होने के कारण इसे शुक्र प्रदोष व्रत (Shukra Pradosh Vrat) के नाम से जाना जाता है. शुक्र प्रदोष व्रत में भगवान शिव (Lord Shiva) के साथ शुक्र देव का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है. आइए जानते हैं शुक्र प्रदोष व्रत के दौरान क्या करें और क्या नहीं.

शुक्र प्रदोष व्रत के दौरन क्या करें 

-शुक्र प्रदोष व्रत के दौरान भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा की जाती है. इस दिन ॐ नमः शिवाय और ॐ उमामहेश्वराभ्याम नमः मंत्र का एक माला जाप अवश्य करें.

– मान्यता है कि अगर आप जल्दी शादी करना चाहते हैं तो शुक्र प्रदोष व्रत पर शिवजी को जल में सुगंधित द्रव्य (इत्र) डालकर अर्घ्य देने से शिवजी प्रसन्न होते हैं और उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है.

-ज्योतिष अनुसार शुक्र प्रदोष व्रत के दिन लाल या गुलाबी फूलों की माला विवाहित दंपत्ति शिवजी को भेंट दें. ऐसा करने से दांपत्य जीवन में मधुरता और निकटता आती है.

-आज शिवजी पर सफेद चंदन अवश्य लगाएं. ऐसा करने से शिवजी प्रसन्न होते हैं. साथ ही व्यक्ति के सभी दुख और दर्द का नाश होता है.

शुक्र प्रदोष व्रत के दिन क्या न करें 

– प्रदोष व्रत के दौरान तामसिक भोजन भूलकर भी न करें. लहसुन-प्याज युक्त भोजन और सोमरस का सेवन कतई न करें.

– एकादशी की तरह प्रदोष व्रत में भी चावल खाने की मनाही होती है. इस दिन, लाल मिर्च और सामान्य नामक का सेवन न करें.

– इस दिन व्रत के दौरान पूजा करने के बाद ही भोजन ग्रहण करें. व्रती दिन में एक बार जल ग्रहण कर सकता है और एक फल का सेवन कर सकता हैं.

– इस दिन आसुरी प्रवृति में लिप्त न हो. साथ ही, किसी से वाद-विवाद भी न करें.

.