रूसी सेनाओं ने मेलिटोपोल के मेयर को किडनैप किया

0
94
.

मॉस्को/कीव: रूस-यूक्रेन युद्ध का आज 17वां दिन है। रूसी सेना ने यूक्रेन की मेलिटोपोल सिटी के मेयर इवान फेडोरोव का अपहरण कर लिया। ये जानकारी यूक्रेन की संसद के ट्वीटर एकाउंट पर दी गई है। इवान ने रूसी सेना को सहयोग करने से मना कर दिया था। यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की बोले- ये IS के आतंकियों जैसी हरकत है।

जेलेंस्की ने कहा- यह रूसी सेना की कमजोरी का संकेत है। वे आतंक के नए लेबल पर हैं। वे यूक्रेनी अफसरों के प्रतिनिधियों को खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं। मेलिटोपोल के मेयर को किडनेप करना एक समुदाय के खिलाफ अपराध है। रूसी सेना इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों की तरह हरकत कर रहे हैं।

आगे बढ़ने से पहले इस मामले पर अपनी राय दे दें…

इधर, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने चेतावनी दी- अगर रूस ने यूक्रेन में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल किया तो वह इसकी गंभीर कीमत चुकाएगा। उन्होंने कहा- अगर नाटो और रूस में सीधी लड़ाई हुई तो तीसरे विश्व युद्ध शुरू हो जाएगा। संयुक्त राज्य अमेरिका, अन्य पश्चिमी देशों की तरह यूक्रेन को विमान-रोधी और टैंक-रोधी मिसाइलों जैसे हथियार भेज रहा है। साथ ही खुफिया जानकारी भी साझा कर रहा है। यूक्रेन के मारियुपोल में गोलाबारी और बमबारी से सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई हैं।

यूक्रेन में सिविल इलाकों में हमले का आरोप
यूक्रेन को जल्द से जल्द घुटने टेकने के लिए मजबूर करने की चाहत में रूसी सेना पर अब आबादी वाले इलाकों को निशाना बनाने के आरोप लग रहे हैं। यूक्रेन के अधिकारियों ने रूसी सेना पर मारियुपोल में नागरिक इलाकों में बमबारी के बाद पोर्ट सिटी माएकोलेव में भी आम जनता के घरों पर रॉकेट हमले का आरोप लगाया है। रूसी सेना द्वारा यूक्रेन की राजधानी कीव के बाहर एक छोटे टाउन मोशचुन में घरों में लगाई गई। आग की सैटेलाइट तस्वीरें भी सामने आई हैं।यूक्रेन के मारियुपोल में रूसी सेना के टैंक के हमले से बिल्डिंग में ब्लास्ट हो गया।

चेर्नोबिल न्यूक्लियर प्लांट पर खतरा
चेर्नोबिल न्यूक्लियर प्लांट को लेकर भी खतरा बढ़ गया है। एक तरफ प्लांट की बिजली अब तक बहाल नहीं हुई है, वहीं प्लांट में बंधक बनाए गए लोगों में से एक की बेटी ने दावा किया है कि कब्जा करने वाले रूसी सैनिकों को न्यूक्लियर सिक्योरिटी की कोई जानकारी नहीं है।

यूक्रेनियन अधिकारियों का कहना है कि रूस ने अब तक चेर्नोबिल न्यूक्लियर प्लांट की बिजली बहाल नहीं की है, जिससे रेडिएशन के बड़े पैमाने पर फैलने का खतरा बढ़ गया है। साथ ही यूक्रेन की इंटेलिजेंस एजेंसी ने इस न्यूक्लियर प्लांट पर नकली आतंकी हमला दिखाने की साजिश रचने का आरोप रूस पर लगाया है। एजेंसी का दावा है कि इसके जरिए रूस अन्य देशों पर यूक्रेन का समर्थन नहीं करने के लिए ब्लैकमेल करना चाहता है। यूक्रेन का एक शरणार्थी परिवार पूर्वी हंगरी के एक छोटे से शहर जाहोनी में राजधानी बुडापेस्ट जाने के लिए ट्रेन का इंतजार करते दिखा।

यूक्रेन युद्ध के ताजा अपडेट्स…

  • कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने कहा- कनाडा यूक्रेन के लोगों के साथ खड़ा है। G7 देश रूस को आर्थिक रूप से अलग-थलग कर देंगे, इससे पुतिन और उनके समर्थकों पर दबाव पड़ेगा।
  • संयुक्त राष्ट्र संघ ने कहा है कि रूस-यूक्रेन की जंग में 25 लाख लोग देश छोड़ चुके हैं, जिससे यूरोप में दूसरी वर्ल्ड वॉर के बाद सबसे बड़ा शरणार्थी संकट खड़ा हो गया है।
  • एक यूक्रेनियन अधिकारी ने कहा है कि मारियुपोल शहर में रूसी बमबारी में मारे गए लोगों की गिनती करना संभव नहीं है, क्योंकि बमबारी अभी थमी नहीं है।
  • अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन ने रूसी शराब, सी फूड और हीरे के इंपोर्ट पर भी बैन लगाने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा, अमेरिका रूस के ट्रेड स्टेटस को कम करेगा और मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा भी हटाएगा।
  • साथ ही बाइडेन ने अमेरिकी संसद मे कहा- पुतिन हमलावर हैं और अगर उन्होंने थर्मोबेरिक कैमिकल वेपन्स इस्तेमाल किए तो इसकी बहुत भारी कीमत चुकानी होगी।
  • एक मशहूर ब्रिटिश अमेरिकी तंबाकू कंपनी ने रूस में अपना व्यापार बंद करने की घोषणा की है।
  • रूस ने लुहान्स्क ओब्लास्ट के 70% हिस्से पर अपना नियंत्रण कर लिया है

यूक्रेन पर वैक्यूम बम का हमला, जानिए आम बमों से ये क्यों है खतरनाक
ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने दावा किया है कि रूसी रक्षा मंत्रालय ने यूक्रेन में इंसान को पल भर में भाप बनाने वाले खतरनाक वैक्यूम बमों के इस्तेमाल की बात मानी है। जानिए क्या होते हैं वैक्यूम बम? क्यों होते हैं ये आम बमों से खतरनाक?

कीव के चारों तरफ नए सिरे से सैनिक तैनात कर रहा रूस

सैटेलाइट तस्वीरों में रूसी सेना का नए सिरे से भारी जमावड़ा कीव के चारों तरफ होने की जानकारी मिल रही है। रूस ने यूक्रेनियन राजधानी कीव पर अपना कब्जा जमाने के प्रयास तेज कर दिए हैं। इसके लिए चारों तरफ से घेराबंदी की जा रही है। सामने आई ताजा सैटेलाइट तस्वीरों में कीव के उत्तर पश्चिम में बड़े पैमाने पर रूसी सेना के जमा होने की जानकारी दी है, जिससे पता लगा है कि रूसी सेना की नए सिरे से तैनाती हो रही है।

.