टाइमलाइन निर्धारित कर शेष आक्सीजन प्लांट्स का कार्य शीघ्र पूरा कराया जाये- मुख्य सचिव

0
79
The work of remaining oxygen plants should be completed soon by setting the timeline - Chief Secretary rajendra tiwari
.

लखनऊ. मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने वीडियोकान्फ्रेन्सिंग के माध्यम से सभी मण्डलायुक्तों एवं जिलाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। अपने सम्बोधन में उन्होंने कहा कि अभी कुल स्वीकृत 548 में से 214 आक्सीजन प्लान्ट क्रियाशील हैं, 15 अगस्त, 2021 तक सभी आक्सीजन प्लान्ट क्रियाशील हो जायें। उन्होंने कहा कि निर्माणाधीन एवं अवशेष आक्सीजन प्लान्ट की स्थापना के लिए सिविल, इलेक्ट्रिकल, मेडिकल पाइप लाइन व डी.जी. सेट आपूर्ति सम्बन्धी सभी कार्य 07 अगस्त, 2021 तक अवश्य पूरे हो जायें तथा 15 अगस्त, 2021 तक सभी स्वीकृत प्लान्ट प्रत्येक दशा में चालू हो जायें।

उन्होंने कहा कि प्लान्ट के रख-रखाव हेतु टेक्नीशियन का चयन कर उनके प्रशिक्षण का कार्य अतिशीघ्र पूरा कर लिया जाये ताकि प्लान्ट चालू होने पर उनके संचालन में कोई समस्या न आये। उन्होंने मण्डलायुक्तों से सप्ताह में 02 बार तथा जिलाधिकारियों से प्रतिदिन आक्सीजन प्लान्ट की स्थापना सम्बन्धी कार्यों की प्रगति का अनुश्रवण करने के निर्देश दिये।

उन्होंने कहा कि पीडियाट्रिक वार्ड्स का भी एक बार जिलाधिकारी निरीक्षण कर लें तथा स्थापित सभी उपकरणों को चेक करा लें। इसके अलावा पीकू वार्ड में आक्सीजन, मैनपाॅवर तथा मेडिसिन की उपलब्धता का भी निरीक्षण करा लिया जाये। उन्होंने कहा कि 15 अगस्त, 2021 से पूर्व सभी तैयारी पूरी कर ली जाये तथा उसमें कोई कमी न रहे। उन्होंने पीडियाट्रिक वार्ड को चाइल्ड फ्रेन्डली बनाने का सुझाव दिया।

सम्पूर्ण समाधान दिवस एवं थाना दिवस में जन शिकायतों के निस्तारण की प्रगति की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि सभी शिकायतों का गुणवत्तापरक् निस्तारण सुनिश्चित कराया जाये। उन्होंने सप्ताह में 01 दिन कर्मचारियों की समस्याएं सुनकर उनका निस्तारण कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि सभी कार्यालाध्यक्ष भी सप्ताह में 01 दिन अधीनस्थ कर्मचारियों की समस्याओं को सुनकर उनका निस्तारण करें। आई.जी.आर.एस. में प्राप्त शिकायती पत्रों के निस्तारण की समीक्षा करते हुए मुख्य सचिव ने कहा कि जिलाधिकारी सप्ताह में 01 दिन प्रगति समीक्षा करें। उन्होंने जन शिकायतों के गुणवत्तापरक् निस्तारण पर बल दिया।

मुख्य सचिव ने कहा कि उद्योग बन्धु की नियमित बैठकें आयोजित की जायें तथा अगले एक सप्ताह में जिलाधिकारी व्यापार एवं औद्योगिक संगठनों के साथ बैठक कर उनकी समस्याओं का तत्परता से निस्तारण सुनिश्चित कराएं। उन्होंने जिलाधिकारियों से कहा कि वह जनप्रतिनिधियों से नियमित संवाद बनायें रखें तथा संवादहीनता की स्थिति नहीं होनी चाहिए।

उन्होंने जिलाधिकारियों से वर्षाकाल में बाढ़, जलभराव एवं सफाई की समस्या पर तत्परता से कार्यवाही करने तथा तत्काल राहत पहुँचाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि बाढ़ की स्थिति पर जिलाधिकारी सतत् नजर रखें तथा जरूरत पड़ने पर राहत पहुँचाने में किसी भी प्रकार का विलम्ब न हो।

बैठक में अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद, सचिव चिकित्सा शिक्षा सौरभ बाबू सहित सभी सम्बन्धित अधिकारीगण तथा वीडियोकान्फ्रेन्सिंग के माध्यम से सभी मण्डलायुक्त, जिलाधिकारी एवं अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण आदि उपस्थित थे।

.