ज्ञान, ध्यान एवं योग से परिपूर्ण हैं ब्राह्मण- अजय मिश्रा

0
135
.

लखनऊ. देशहित में ब्राह्मण परिवारों का हमेशा योगदान रहा है। ब्राह्मण गरीब एवं दरिद्र नहीं है, बल्कि उसके पास ज्ञान, ध्यान और योग की अपारशक्ति हैं, जिसकी बदौलत वह समाज को नई दिशा देने का कार्य करता है। यह बात राष्ट्रीय परशुराम परिसद के दिव्य दक्षिणा कार्यक्रम के समापन सत्र को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ने कही।

उन्होंने कहा कि ब्राह्मणों का देश एवं समाज में गौरवशाली इतिहास रहा है। ब्राह्मण सम्मान चाहता है, ब्राह्मणों ने राष्ट्र विरोधी शक्तियों के खिलाफ लड़ाई लड़ी है, और समाज के सभी वर्गों को एक नई दिशा देकर राष्ट्र की मजबूती के लिए एकजुटता के साथ संघर्ष करने हेतु प्रेरित किया है।

राष्ट्रीय परशुराम परिषद के कार्यों में करूंगा सहयोग- अश्वनी चौबे

दिव्य दक्षिणा कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे केन्द्रीय मंत्री अश्वनी कुमार चौबे ने कहा कि राष्ट्रीय परशुराम परिषद के बैनर तले आयोजित इस दिव्य दक्षिणा कार्यक्रम में शामिल होने का अवसर मिला। इसके लिए आयोजक मंडल के प्रति आभार व्यक्त करता हूँ और विश्वास दिलाता हूँ कि परिषद द्वारा राष्ट्र हित में किए जा रहे कार्यों में उनका निरंतर सहयोग रहेगा। उन्होंने कहा कि समाज में ब्राह्मण ही एक ऐसी प्रबुद्ध कौम है जो बिना किसी भेदभाव के सभी वर्गों को सच्चाई के रास्ते पर चलने की प्रेरणा देती है।

राज्यमंत्री भराला ने सामाजिक कार्यों के लिए दिया 1 करोड़ रुपये का दान

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय परशुराम परिषद के संस्थापंक एवं संरक्षक और श्रम कल्याण परिषद उ0प्र0 के अध्यक्ष राज्यमंत्री पं0 सुनील भराला ने सामाजिक कार्यों के लिए एक करोड़ रूपये देने की घोषणा की। और कहा यह मेरा दान नहीं कर्तव्य है। उन्होंने परिषद द्वारा संचालित समाज के हितार्थ कार्यों को उल्लेख करते हुए कहा कि परिषद का उद्देश्य समाज में फैली कुरीतियों को रोकना है। उन्होंने फ्रंटल संगठनों का जिक्र करते हुए कहा कि राष्ट्र विरोधी शक्तियों से लड़ने का काम परशुराम स्वाभिमान सेना एवं महिलाओं के उत्पीड़न को रोकने के साथ ही उन्हें अधिकार दिलाने के लिए परशुराम शक्तिवाहिनी देश की 50 फीसदी महिला आबादी के लिए कार्य कर रही है।

उन्होंने कहा कि देश में ब्राह्मणों की आबादी 16.5 फीसदी है। हिन्दू समाज की संस्कृति तथा कर्मकांड से वेदपुराण और अपने हिन्दू धर्म एवं संस्कृति की रक्षा के कार्य में यह सभी ब्राह्मण तल्लीन है। श्री भराला ने बताया कि राष्ट्रीय परशुराम परिषद श्री परशुराम विश्व विद्यालय की स्थापना के माध्यम से हिन्दू समाज के जरूरत मंद परिवारों के बच्चों को विश्वविद्यालय में आने वाले पढ़ाई के खर्च के वहन कर कामर्शियल एवं प्रोफेशनल उच्च शिक्षा ग्रहण कराकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाना प्राथमिकता में शामिल है।

सांसद शिवप्रताप शुक्ला ने अपने उद्बोधन में कहा कि भगवान श्री परशुराम ने सदैव आतताइयों, आतंकी एवं भ्रष्टाचारियों का वध किया। उन्हें किसी जाति विशेष से जोड़ना उचित नहीं है। श्री शुक्ला ने कहा कि उ0प्र0 की राजनीति में पं0 सुनील भराला एक ऐसे व्यक्तित्व के धनी है। जिन्होंने अपनी मेहनत एवं अच्छी सोच के साथ राष्ट्रीय परशुराम परिषद का गठन कर राष्ट्रीय स्तर पर ऐसा मंच खड़ा कर दिया है। जिस पर समूचे ब्राह्मण समाज को गर्व महसूस करना चाहिए।

सांसद अशोक बाजपेयी ने कहा कि 2018 में जब इस परिषद का गठन हुआ तो मुझे पहली बार संस्था के कार्यक्रम में शामिल होने का अवसर मिला। आज दिव्य दक्षिणा कार्यक्रम में शामिल होकर गर्व की अनुभूति कर रहा हूँ।

परमपूज्य शाम्भवी पीठाधीश्वर पूज्य स्वामी श्री आनंद स्वरूप महाराज ने कहा कि राष्ट्रीय परशुराम परिषद का जो उद्देश्य है। वह अपने आप में एक विचित्र अलख है। देश में बहुत सारे संगठन कार्य करते हैं, लेकिन किसी ने ऐसा कार्य नहीं किया। यह भारत वर्ष का पहला संगठन है, जो गहरे चिंतन एवं उद्देश्यों के साथ खड़ा हुआ है। भारतवर्ष के जो भी ब्राह्मण संगठन कार्य कर रहे हैं। उन सब को राष्ट्रीय परशुराम परिषद में विलय कर समाज एवं देशहित में एक नई ताकत के साथ कार्य करना चाहिए।

ब्राह्मण समाज का योगदान अद्वितीय- डॉ0 महेश शर्मा

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सांसद डॉ0 महेश शर्मा ने भी अपनी ओजस्वी शैली में एकजुटता पर जोर डाला और कहा कि ब्राह्मण ही ऐसी जाति है, जो समाज के सभी वर्गों की दशा पर चिंतन कर उन्हें दिशा देने का कार्य करती है। उन्होंने कहा कि समाज में जिसके पास ज्ञान, ध्यान और योग की ताकत है। वह सदैव प्रेरणा देने की ही भूमिका में रहेगा।

कार्यक्रम में धन्यवाद ज्ञापित करते हुए परिषद के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष अजय कुमार झा ने कहा देश में कुछ शक्तियां भारत में फैले 12.5 फीसदी ब्राह्मणों के शोषण का कुचक्र रच रही हैं। लेकिन ब्राह्रण के पास ज्ञान, ध्यान और योग की शक्ति है। इसलिए उसे गुमराह नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि कश्मीरी ब्राह्मण को राजनैतिक दलों द्वारा सम्मान दिलाने के साथ ही उन्हें स्थापित करने एवं बेरोजगार युवाओं को रोजगार दिलाकर परिषद के लक्ष्यों को आगे बढ़ाना हमारा संकल्प है।

कार्यक्रम में प्रदेश अध्यक्ष दिल्ली रघुवीर शर्मा, नीलम पाण्डेय शर्मा, एडिटर इन चीफ वन इंडिया शैलेन्द्र कुमार शर्मा, रोमिला शर्मा, कई पूज्य संत, वरिष्ठ पत्रकार, आई0ए0एस0 अधिकारी एवं अन्य सम्मानित पदाधिकारी मौजूद रहे।

.