UP: 3 दलित नाबालिग बहनें खेत में संदिग्ध हालत में बेहोश मिली, दो की मौत, सपा का आरोप- मामले को दबा रही पुलिस

0
143
.

क्राइम डेस्क. उत्तर प्रदेश के उन्नाव से बेहद हैरान करने वाला मामले सामने आया है। यहां जिले के बबुराहा टोला गांव में बुधवार को चारा काटने खेत गई 3 दलित बहनें संदिग्ध हालत में बेहोश मिली। जिसमें 2 लड़कियों की मौत हो गई है, वहीं तीसरी की हालत गंभीर है। तीनों एक ही दुपट्टे से बंधी मिली थीं। मुंह से झाग निकल रहा था। इसे देखते पुलिस ने पॉइजनिंग की आशंका जताई है। इस घटना को लेकर पूरे गांव में गुस्सा है। ऐसे में यहां भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।

पासी समुदाय की इन लड़कियों की उम्र 13, 16 और 17 साल है। इनके भाई ने कहा कि हमारे परिवार की किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। तीनों बहनें पहले स्कूल जाती थीं, लेकिन कुछ दिन पहले उनका स्कूल जाना छुड़वा दिया गया था। पीड़ित परिवार ने इस घटना के पीछे किसी साजिश का शक जताया है। हालांकि, उन्नाव के SP आनंद कुलकर्णी का कहना है कि पोस्टमॉर्टम के बाद ही मौत की वजह पता चल सकेगी। जांच के लिए छह टीमें बनाई गई हैं।

तीसरी लड़की गंभीर हालत में कानपुर रेफर

परिवार वालों ने बताया कि तीनों लड़कियां दोपहर करीब तीन बजे अपने ही खेत पर चारा लेने गई थीं। शाम तक नहीं लौटीं तो उनकी तलाश शुरू की गई। अस्पताल ले जाने पर दो को मृत घोषित कर दिया गया। तीसरी लड़की को कानपुर रैफर किया गया है।

सपा का आरोप- मामला दबाया जा रहा

सपा नेता सुनील साजन (SP Leader Sunil Singh) ने पुलिस पर इस मामले को दबाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि पुलिस जिस तरह इस मामले को हैंडल कर रही है, उससे साफ है कि वह असलियत छिपाना चाहती है। उत्तर प्रदेश में दलित बेटियां सुरक्षित नहीं हैं।

जोर-जबर्दस्ती का शक नहीं

पाठकपुर की ग्राम प्रधान सीमा पाठक के पति धर्मेंद्र ने बताया कि उन्होंने अस्पताल में लड़कियों के शव देखे। इन पर किसी तरह के चोट के निशान नहीं हैं। शरीर पर पूरे कपड़े थे, ऐसे में जोर-जबर्दस्ती की आशंका भी नहीं है। उन्होंने बताया कि बबुराहा की आबादी करीब 300 है। इनमें ज्यादातर ब्राह्मण और गोस्वामी समुदाय के हैं। पासी समुदाय के कुछ ही घर हैं।

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here