UP: CM योगी ने भूजल प्रदर्शनी का किया अवलोकन, बोले- बारिश की एक-एक बूंद को सहेजना होगा

0
24
UP CM Yogi observed the groundwater exhibition, said - every drop of rain has to be saved
.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जल बहुमूल्य है। हमें वर्षा जल की एक-एक बूंद को सहेजना होगा। अपनी सात पवित्र नदियों में गंगा एवं यमुना सर्वप्रथम आती हैं। गंगा एवं यमुना का पवित्र संगम हमारे प्रदेश में होता है। ‘नमामि गंगे’ परियोजना के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गंगा नदी तथा इसकी सहायक नदियों की निर्मलता के लिए जो प्रयास किए हैं, उसके सफल परिणाम आज हम सबके सामने हैं। प्रदेश में भूजल के महत्व, उसके संरक्षण एवं संवर्धन के प्रति जन-जागरूकता के लिए 16 से 22 जुलाई, 2021 तक भूजल सप्ताह मनाया गया।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने यह विचार इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में भूजल सप्ताह के राज्य स्तरीय समापन समारोह के दौरान व्यक्त किए। इस अवसर पर उन्होंने प्रदेश में जल प्रबन्धन के क्षेत्र में कार्य करने वाले उमाशंकर पाण्डेय (बांदा), अरविन्द अग्रवाल (लखनऊ), जल सहेली नीलम झा (झांसी), संजय सिंह (झांसी) से संवाद किया।

सीएम योगी ने कहा कि विगत 10 वर्षों की प्राप्त भूजल रिपोर्टों के अनुसार गिरता हुआ भूजल स्तर एक गम्भीर समस्या बन चुकी है। विगत सवा चार वर्षों में हमने प्रदेश को क्रिटिकल से सेमी क्रिटिकल स्थिति में पहुंचाने में सफलता प्राप्त की है। प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में भूजल स्तर के उन्नयन हेतु वर्ष 2019 में अटल भूजल योजना का शुभारम्भ किया गया। प्रारम्भ में इस योजना के अन्तर्गत प्रदेश के 10 जिले, 26 ब्लॉक, 595 पंचायतें आच्छादित थीं। वर्तमान में अटल भूजल योजना पूरे प्रदेश में संचालित की जा रही है। आज इसके सकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने प्रदेश में जल प्रबन्धन के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि प्रदेश के अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग मॉडल अपनाकर जल प्रबन्धन के कार्य किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वर्षा जल संचयन हेतु चित्रकूट क्षेत्र में तालाबों, कुओं का निर्माण एवं जीर्णोद्धार तथा वाराणसी में निष्प्रयोज्य हैण्डपम्पों का उपयोग जैसे मॉडल अपनाए गए हैं। भूजल में फ्लोराइड, आर्सेनिक जैसे तत्वों को कम करने तथा पानी के खारेपन को दूर करने के निरन्तर प्रयास किए जा रहे हैं।

इस अवसर पर जल शक्ति मंत्री ने मुख्यमंत्री को अंग वस्त्र, एक पौधा एवं भगवान श्रीराम की प्रतिमा भी भेंट की। कार्यक्रम में जल पुरुष राजेन्द्र सिंह, प्रमुख सचिव नमामि गंगे एवं ग्रामीण पेयजल अनुराग श्रीवास्तव सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

.