लखनऊ: HSRP के बिना नहीं होगा RTO में कोई काम, वाहन मालिक परेशान 2 महीने बाद की मिल रही डेट

0
169
.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में वाहनों पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) अनिवार्य कर दिया गया है। मतलब जिन गाड़ियों पर HSRP नहीं होंगे, उनका ट्रांसफर, पता परिवर्तन और फिटनेस प्रमाण पत्र जैसे RTO से जुड़े काम नहीं हो पाएंगे। इस नियम के बाद से गाड़ी मालिक परेशान हो गए हैं।

नए नंबर प्लेट के बिना जहां कई काम ठप पड़ गए हैं वहीं वाहन मालिकों में HSRP की बुकिंग को लेकर होड़ मच गई है। ऑनलाइन बुकिंग व्यवस्था के तहत लोगों को दो-दो माह के बाद की तारीख मिल रही है। लखनऊ में अभी 14 लाख से अधिक गाड़ियों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगना बाकी हैं।

सोमवार को प्रमुख सचिव परिवहन की ओर से जारी नए सर्कुलर में साफ कहा गया है कि HSRP के बिना RTO कार्यालय में कोई काम नहीं होगा। इतना ही नहीं वाहनों का फिटनेस भी नहीं किया जाएगा। इतना राहत जरूर दी गई है कि HSRP की रसीद पर कार्यालयों में कामकाज हो सकेगा।

UP में चार वेंडरों को दी गई HSRP की जिम्मेदारी

प्रदेश में चार वेंडरों को हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वाहन डीलरों के यहां प्रतिदिन दर्जनों पुराने वाहन स्वामी HSRP बुक कराने के लिए जा रहे हैं। वहां पर तैनात कर्मचारी इन वाहन स्वामियों को उनके मोबाइल से ही नंबर प्लेट बुक करा रहे हैं। इतना ही नहीं जिन लोगों ने पहले से बुकिंग करा रखी है‚ प्रतिदिन एक वाहन डीलर के यहां से 50 से 60 हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट दिए जा रहे हैं।

ऑनलाइन बुकिंग का आलम यह है कि गुरुवार यानी 25 फरवरी को जिस वाहन स्वामी ने हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट बुक करायी है‚ उसकी बुकिंग 27 अप्रैल की आई है। हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के लिए वाहन स्वामी को दो महीने से ज्यादा का वक्त का इंतजार करना पड़ेगा।

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here