Vegetables Price in Lucknow: आसमान छू रहे सब्जियों के दाम, अभी इतनी जल्दी नहीं मिलेगी राहत

0
330
.

लखनऊ. राजधानी लखनऊ (Lucknow) में हरी सब्जियों (Green Vegetables) की किल्लत के चलते इनके भाव चढ़ते ही जा रहे हैं. बाजार में आवक इतनी कम हो गयी है कि सभी सब्जियों के दाम 50 रूपये प्रति किलो से ज्यादा ही हो गये हैं. कुछ ने तो सैकड़ा भी लगा दिया है. दाम में फिलहाल कोई कमी की उम्मीद नहीं है. अगले एक महीने तक भाव के यूं ही बढ़ते ही रहने का अंदेशा है. हां, ये जरूर है कि प्याज के दामों में कमी आती जा रही है.

करैला, भिण्डी, लौकी, कद्दू, हरी पत्तेदार प्याज जैसी हरी सब्जियों के दामों में पिछले एक हफ्ते में ही ठीकठाक उछाल देखने को मिला है. 20-25 रूपये प्रति किलो बिकने वाला कद्दू और लौकी अब फुटकर में 40 रूपये के भाव बिक रहा है. भिण्डी वैसे तो 50-60 रूपये किलो में बिक रही थी लेकिन, ये भी फुटकर में 20 रूपये पाव में बिक रही है. सबसे तेजी तो करैले में देखने को मिल रही है. करैला 80-100 रूपये प्रति किलो के भाव पहुंच गया है. तेजी से दाम तो हरी पत्तेदार प्याज का भी बढ़ा है. अमूमन 20-25 रूपये प्रति किलो बिकने वाला पत्तीदार प्याज अब 60 रूपये प्रति किलो के भाव से बिकने लगा है. परवल के दाम भी आसमान पर हैं. 20 रूपये पाव के हिसाब से परवल बिक रहा है. पालक 30-40 रूपये में बिक रही है.

लखनऊ में सब्जी की दुकानदारों ने बताया कि दाम में फिलहाल कोई कमी नहीं आयेगी. जाड़े की सब्जियों का सीजन जा रहा है. पौध सूख रही है. अब जब तक गर्मी वाली सब्जियां मार्केट में नहीं आयेंगी तब तक दाम में भी कोई गिरावट नहीं आयेगी. गर्मी के सीजन की सब्जियां अभी लगी हैं, लेकिन, पैदावार होने में कुछ टाइम अभी और लगेगा. जब नयी फसल की लौकी, करैली, तोरई, परवल, कद्दू और भिण्डी आयेगी तभी दामों में कमी आयेगी. ये जरूर है कि सरकारों को हिला देने वाले प्याज के दाम पिछले हफ्ते के मुकाबले कम हुए हैं. फुटकर में 50 रूपये प्रति किलो में बिकने वाला प्याज अब 30-40 रूपये प्रति किलो के भाव आ गया है. गांव-गांव में प्याज की फसल तैयार हो गयी है. ऊपर से महाराष्ट्र से आने वाले प्याज की आवक भी बढ़ गयी है. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि प्याज के दाम और कम हो सकते हैं.

.